कानपुर में इन जगहों पर सजे ग्रीन पटाखा बाजार, चोरी छिपे देसी बम बेचे तो होगी FIR

Swati Gautam, Last updated: Tue, 2nd Nov 2021, 5:57 PM IST
  • कानपुर के 32 स्थानों पर आज यानी मंगलवार से पटाखा बाजार सजेंगे. बाजारों में दुकानदार सिर्फ ग्रीन पटाखों की बिक्री कर पाएंगे यदि कोई चोरी छिपे देसी पटाखों की बिक्री करता पाया जाता है उसके खिलाफ एफआईआर होगी. बाजारों में पुलिसकर्मी तैनात हैं और सभी दुकानदारों पर कड़ी निगरानी रख रहे हैं.
कानपुर में इन जगहों पर सजे ग्रीन पटाखा बाजार, चोरी छिपे देसी बम बेचे तो होगी FIR. फाइल फोटो फोटो

कानपुर. 4 नवंबर को देशभर में दिवाली का त्योहार मनाया जायेगा ऐसे में सभी राज्यों में तैयारियां शुरू हो गई हैं. कोर्ट के आदेश पर कानपुर में भी चयनित जगहों पर ग्रीन पटाखों के बाजार सज चुके हैं. वायु प्रदूषण को देखते हुए प्रशासन की और से कड़ी चेतावनी दी गई है कि यदि दुकानों पर देसी बम, तेज आवाज वाले मिर्ची बम, वायु प्रदूषण फैलाने वाले देसी अनार जैसे अन्य पटाखे बेचता पाया गया तो उस पर एफआईआर दर्ज की जायेगी. बाजारों में पुलिसकर्मी तैनात हैं और सभी दुकानदारों पर कड़ी निगरानी रख रहे हैं. मालूम हो कि पुलिस कमिश्नरेट में आने वाले कानपुर के 32 स्थानों पर पटाखा बाजार सजेगा जहां दुकानदार सिर्फ ग्रीन क्रैकर्स की बिक्री कर पाएंगे.

बता दें कि पुलिस कमिश्नरेट बनने के बाद पहली पुलिस द्वारा जांच के बाद पटाखा लाइसेंस जारी किए गए हैं. वहीं कानपुर में इस बार पटाखा का थोक बाजार जाजमऊ के अकील कंपाउंड में लगाया गया है. उसके अलावा किदवई नगर के आयुर्वेदिक पार्क में 40 दुकानदारों को पटाखा बिक्री की अनुमति दी गई है. ऐगोविंद नगर के रामलीला मैदान, दबौली दुर्गा मंदिर, शास्त्री नगर सेंट्रल पार्क समेत पुलिस कमिश्नरेट में आने वाले 32 स्थानों पर पटाखा बाजार सजेगा जिन्हें सिर्फ ग्रीन पटाखों की बिक्री की अनुमति दी गई है.

UPMRC में कानपुर टनल सबसे गहरी, लखनऊ से डेढ़ गुना नीचे दौड़ेगी कानपुर मेट्रो

नोडल आफिसर एसीपी बाबूपुरवा आलोक सिंह ने बताया कि थोक पटाखा बिक्री के लिए 18 आवेदन आए थे. इसमें से एक व्यापारी अंजुमन नैय्यर के ऊपर ग्वालटोली थाने में किसी केस के चलते एफआईआर दर्ज थी इसलिए उनका लाइसेंस आवेदन निरस्त कर दिया गया है इसके अलावा सभी कारोबारियों पर कोई अपराधिक मामला दर्ज नहीं था इसलिए सभी 17 कारोबारियों को लाइसेंस रिसीव करा दिए गए हैं. उन्होंने बताया कि 225 फुटकर व्यापारियों को लाइसेंस जारी हुए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें