नए साल पर जेड स्कवेयर मॉल के 3 गेट सील, टैक्स नहीं देने पर नगर निगम की कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: Fri, 1st Jan 2021, 7:58 PM IST
  • कानपुर के सबसे बड़े मॉल जेड स्कवेयर मॉल के तीन गेट को शुक्रवार को महापौर प्रमिला पांडेय ने नगर निगम के अधिकारीयों के साथ पहुंचकर सील कर दिया. कानपुर नगर निगम ने ये कार्यवाई जेड स्कवेयर मॉल द्वारा दो साल से बकाया 13 करोड़ का टैक्स नहीं देने पर किया.
नए साल पर कानपुर के सबसे बड़े मॉल के 3 गेट सील

कानपुर. कानपुर की महापौर प्रमिला पांडेय ने नए साल पर सुबह सुबह कानपुर के जेड स्कवेयर मॉल पहुंचकर उसके तीन गेटों पर ताला जड़ दिया. साथ पूरे मॉल को भी खाली करा दिया और अंदर जाने वालो को भी रोका गया. दरअसल ये पूरा एक्शन नगर निगम की कार्यवाई के तहत लिया गया. जानकारी के अनुसार नगर निगम ने जेड स्कवेयर मॉल पर ये कार्यवाई दो साल के बकाया टैक्स को नहीं जमा करने के कारण किया. साथ ही बकाया टैक्स नहीं जमा करने पर जेड स्कवेयर मॉल के चौथे गेट को भी सील करने की चेतावनी दी.

नगर निगम का मॉल पर 13 करोड़ का टैक्स बकया है. जिसे जेड स्क्वेयर मॉल चूका नहीं रहा था. जिसके बाद बैठक में मॉल को बंद करने का फैसला लिया गया. मॉल को बंद करने के लिए महापौर नगर निगम अधिकारीयों और कर्मचारियों के साथ सुबह ही पहुंच गई. जिसके बाद जेड स्कवेयर मॉल के तीन गेट को सील कर दिया गया. गेट नम्बर तीन को मॉल के अंदर मौजूद लोगो को निकलने के छोड़ दिया गया. साथ ही स्टाफ और घूमने आए लोगो को मॉल से निकालने के लिए अनाउसमेंट भी किया गया.

कानपुर महापौर उर्मिला पांडेय से वार्ता करते मॉल के अधिकारी

लखनऊ: योगी सरकार ने गिनवाई 2020 की उपलब्धि, कहा- चार साल में चार लाख रोजगार दिया

वहीं मौके पर मॉल के प्रबंधक ने पचास लाख का चेक दिया, लेकिन महापौर ने पांच करोड़ का चेक देने के लिए कहा. साथ यह भी कहा कि चेक नहीं मिलने पर मॉल को खली कराके चौथे गेट को भी बंद कर दिया जाएगा. वहीं मॉल के प्रबंधक ने अधिकारी महापौर और नगर निगम के अधिकारियो के साथ वार्ता किया. जिसमे उन्होंने ने बताया कि उनके ऊपर ऊपर इतना टैक्स नहीं है, जिसके उन्होंने कागजात भी दिखाए. साथ ही मॉल को बंद करने से पहले ये ध्यान रखा गया की अंदर कोई फसा न रह जाए. इसके लिए नगर निगम के कर्मचारी मॉल के अंदर मौजूद सभी लोगो बहार निकला.

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए UP टीम घोषित, रैना और भुवनेश्वर की वापसी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें