कपड़ा मंत्रालय के आदेश पर, कानपुर बीआईसी की 300 मिसिंग फाइलों की जांच शुरू

Smart News Team, Last updated: 16/10/2020 12:36 PM IST
  • कानपुर के बीआईसी यानी ब्रिटिश इंडिया कॉरपोरेशन की जमीनों को लेकर 300 मिसिंग फाइलों पर कपड़ा मंत्रालय ने जांच के लिए विजिलेंस टीम का गठन किया है. 
बीआईसी चेयरमैन बलवंत कुमार ने साफ कर दिया है कि कंपनी को बंद करने का फैसला हो चुका है और अब इस पर दोबारा विचार नहीं होगा. अधिकारियों और कर्मचारियों को कंपनी ने वीआरएस देने की बात की है.

कानपुर. कानपुर के बीआईसी यानी ब्रिटिश इंडिया कॉरपोरेशन की जमीनों को लेकर 300 मिसिंग फाइलों का मामला गर्म होता जा रहा है. बीआईसी के मैनेजर केपी वर्मा का अगस्त महीने में निधन हो गया था. उनके घर से दर्जनों फाइलें मिली हैं. इन फाइलों की जांच और रिपोर्ट बनाने के लिए कपड़ा मंत्रालय की तरफ से दो विजिलेंस अधिकारियों की निगरानी में चार अधिकारियों और चार क्लर्कों की टीम को बनाया गया है. 

इस टीम की जिम्मेदारी दिवंगत मैनेजर केपी वर्मा के घर पर मिली सभी फाइलों का की रिपोर्ट बनाकर मुख्यालय को भेजना है. बताया जा रहा है कि रिपोर्ट को सीबीआई से भी शेयर किया जाएगा. सीबीआई काफी दिनों से गुम फाइलों की तलाश में जुटी है. कपड़ा मंत्रालय ने बीआईसी से एक भी फाइल बाहर ले जाने पर रोक लगा दी है. माना जा रहा है कि मामले की गंभीरता को देखते हुए कपड़ा मंत्रालय ने यह फैसला लिया है.  सूत्रों ने बताया कि करीब 300 फाइले गायब है, जबकि अधिकारियों का मानना है कि 60-70 फाइलें हो सकती है. हालांकि, अभी तक कुछ स्पष्ट नहीं कहा जा सकता हैं. 

कानपुर बीआईसी 2 महीने में बंद, लाल इमली पर ताला, कर्मचारियों को VRS देगी कंपनी

विजिलेंस टीम को कपड़ा मंत्रालय ने निर्देश दिया गया है कि फाइलों की लिस्टिंग कर के सूचना तत्काल मंत्रालय को भेजी जाए. इस काम के लिए विजिलेंस टीम के साथ बिजनेस मैनेजर और फाइनेंस मैनेजर को भी लगाया गया है. 

कानपुर: कंगाल BIC कपड़ा मिल ने श्रमिकों से कहा ना करें विरोध, मांगा VRS का मसौदा

मिसिंग फाइलों को लेकर लीपापोती पहले से की गई है. इससे पहले कपड़ा मंत्रालय ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए है. जमीन को लेकर कई संदिग्धों के नाम कपड़ा मंत्रालय के पास है. लेकिन अफसरों ने इस मामले को दबाने का काम किया है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें