राष्ट्रीय शर्करा संस्थान में 50वां दीक्षांत समारोह, अभिषेक और अरूण किए जाएंगे सम्मानित

Anurag Gupta1, Last updated: Tue, 16th Nov 2021, 11:51 AM IST
  • राष्ट्रीय शर्करा संस्थान में मंगलवार को 50वां दीक्षांत समारोह मनाया जाएगा. इसमें लगभग दो वर्षों के 450 छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया जाएगा. कुल 19 मेधावियों को 34 पदक, अवार्ड व फेलोशिप से सम्मानित किया जाएगा. 
राष्ट्रीय शर्करा संस्थान कानपुर (फाइल फोटो)

कानपुर. राष्ट्रीय शर्करा संस्थान में मंगलवार को 50वां दीक्षांत समारोह मनाया जाएगा. दीक्षांत समारोह में अभिषेक व अरुण कुमार को भारत सरकार की ओर से दिए जाने वाले महात्मा गांधी गोल्ड मेडल से सम्मानित किया जाएगा. दीक्षांत में दो वर्ष के 450 छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया जाएगा. पीजी डिप्लोमा इन शुगर टेक्नोलॉजी के वर्ष 2018-19 के टॉपर अभिषेक को कुल दो मेडल और वर्ष 2019-20 के टॉपर अरुण कुमार को कुल तीन मेडल से सम्मानित किया जाएगा.

राष्ट्रीय शर्करा संस्थान के दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि तौर पर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल वर्चुअल माध्यम से मौजूद रहेंगे. वहीं विशिष्ट अतिथि के रूप में केंद्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति व सांसद देवेंद्र सिंह भोले होंगे. अध्यक्षता भारत सरकार के मंत्रालय शर्करा एवं प्रशासन के संयुक्त सचिव सुबोध कुमार सिंह करेंगे. संस्थान के निदेशक प्रो. नरेंद्र मोहन ने बताया कि कुल 19 मेधावियों को 34 पदक, अवार्ड व फेलोशिप से सम्मानित किया जाएगा. साथ ही बताया कि यह पहला मौका होगा जब चार लोगों को फेलोशिप प्रदान की जा रही है.

घरेलू नौकर, बाई, चौका-बर्तन वालों को मिलेगा आयुष्मान कार्ड, 5 लाख तक का इलाज मुफ्त

निदेशक नरेंद्र मोहन ने बताया कि संस्थान की स्थापना वर्ष 1936 में हुई थी. अंग्रेजी शासन में इसका नाम इंपीरियल इंस्टीट्यूट आफ शुगर था. आजादी के बाद इसका नाम बदलकर 1957 में राष्ट्रीय शर्करा संस्थान रखा गया. इसके पहले संस्थान का संचालन एचबीटीआइ में होता था इसके बाद इसे कल्याणपुर शिफ्ट किया गया. साथ 85 साल का इतिहास बताते हुए कहा कि संस्थान में तमाम शोध हुए और गन्ना व चीनी उत्पादन के क्षेत्र में अग्रणी कार्य हुए है.

संस्थान की उपलब्धि:

संस्थान ने अपने 85 वर्षों में ऐसी शिक्षा और प्रतिभाएं प्रदान की जिसके चलते देश ही नहीं विदेशों में भी यहां के छात्र नाम रोशन कर रहे हैं. आज भी संस्थान के पूर्व छात्रों के फार्मूलों पर चीनी मिलों में उत्पादन का आंकलन होता है. कई छात्र तो कंपनियों के मालिक व डायरेक्टर बनकर रोजगार के अवसर भी मुहैया करा रहे हैं. दीक्षांत समारोह में जब प्रतिभाशाली छात्र शिरकत करेंगे तो संस्थान का गौरव और बढ़ेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें