अब दो ग्राम ज्वेलरी का भी देना होगा हिसाब, आधार कार्ड दिखाने पर मिलेगा सोना

Smart News Team, Last updated: Sat, 29th May 2021, 12:51 PM IST
  • भारतीय मानक ब्यूरो के नए नियम के अनुसार सर्राफा व्यापारियों को दो ग्राम से ज्यादा की ज्वेलरी बेचने पर खरीदने वाले ग्राहक का मोबाइल नंबर और आधार बिल के साथ अटैच करना होगा. हालांकि सर्राफा व्यापारी इसका विरोध कर रहे हैं.
अब दो ग्राम ज्वेलरी का भी देना होगा हिसाब, आधार कार्ड दिखाने पर मिलेगा सोना

कानपुर. सर्राफा बाजार पहले से कोरोना माहमारी की मार झेल रहा है. वहीं इसके बाद अब भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) ने एक नया नियम जारी कर दिया है. जिसके अनुसार अब ज्वेलरी बिल में 2 ग्राम से ज्यादा सोना खरीदने पर भी ग्राहक का आधार से लेकर मोबाइल नम्बर तक लिंक किया जाएगा. बीआईएस ने इस नियम को सोने की खरीदारी को लाइव मोनिटरिंग करने के लिए किया है. 

वहीं इस नियम के आने के बाद सर्राफा व्यापारी इसका विरोध कर रहे है. साथ ही इस नियम को वापस लेने की मांग भी कर रहे है. दरअसल हाल ही में बीआईएस और सराफा व्यापारियों के बीच वर्चुअल बैठक हुई थी. उसी बैठक में सर्राफा कारोबारियों को इस नियम के बारे में अवगत कराया गया था. साथ ही यह भी बताया था कि इस नियम को सभी जगह पर 15 जून से लागू कर दिया जाएगा. 

मेदांता में भर्ती आजम खान की हालत नाजुक, ऑक्सीजन सपोर्ट पर इलाज जारी

वहीं इस नियम को वापस लेने के लिए सर्राफा व्यापारियों ने अपनी आवाज तेज भी कर दी है. इस नियम पर व्यापारियों का कहना है कि इस नए नियम के कारण सोने की मॉनिटरिंग इतनी तेज होगी कि दुकानदार ने जैसे ही ग्राहक को बिल बनेगा और उसका मोबाइल नम्बर और आधार अटैच करेगा, भुगतान करने से पहले ही निगरानी करने वाले को दिख जाएगा कि किस दुकान से इसे खरीदा गया है. 

कोरोना काल में UP वालों को राहत, CM योगी ने बिजली रेट ना बढ़ाने का दिया निर्देश

इस नियम को लेकर बीस महानिदेशक प्रमोद तिवारी का कहना है कि इस  नियम से ये पता लगाना इतना आसान हो जाएगा कि सोना कब, किस दिन, कितने बजे, और किस ग्राहक ने खरीदा है. जिसको लेकर सराफा व्यापारियों का कहना है कि सभी गहनों पर होलमार्क लगाने को लेकर 95 फीसद व्यापारियों को कोई परेशानी नहीं है, लेकिन उन्हें सबसे ज्यादा परेशानी इस नए नियम से है कि 2 ग्राम से ऊपर के ज्वेलरी पर ग्राहक का आधार और मोबाइल नम्बर अटैच करना व्यवहारिक नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें