कानपुर: ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए बनी नई व्यवस्था, जानें क्या है नए नियम

Smart News Team, Last updated: Thu, 5th Aug 2021, 3:03 PM IST
  • कानपुर के पनकी में अंतरराष्ट्रीय मानकों के मुताबिक सेंसर वाला ड्राइविंग ट्रैक बनाया गया है. राज्य के पहले सेंसर युक्त ट्रैक पर ज्यादातर आवेदक वाहन चलाने में असफल हो रहे हैं. अब आरटीओ ने नई व्यवस्था की है. जिसके अनुसार स्थाई ड्राइविंग लाइसेंस के लिए टेस्ट देने वालों को पहले ट्रायल का मौका दिया जाएगा.
ड्राइविंग लाइसेंस(प्रतीकात्मक फोटो)

कानपुर. यूपी के कानपुर के पनकी में अंतरराष्ट्रीय मानकों के मुताबिक सेंसर वाला ड्राइविंग ट्रैक बनाया गया है. राज्य के पहले सेंसर युक्त ट्रैक पर ज्यादातर लाइसेंस आवेदक वाहन चलाने में सफल नहीं हो रहे हैं. इसको देखते हुए आरटीओ ने नई व्यवस्था की है. जिसके अनुसार स्थाई ड्राइविंग लाइसेंस के लिए टेस्ट देने वालों को पहले ट्रायल का मौका दिया जाएगा.

ऐसा इसलिए किया गया ताकि वाहन चालक का आत्मविश्वास बढ़ सके. इसके बाद टेस्ट लिया जाएगा. ड्राइविंग लाइसेंस टेस्ट पारदर्शी हो इसके लिए पनकी में ऑटोमेटिक टेस्टिंग ड्राइविंग ट्रैक तैयार करा गया और इस पर सेंसर लगे हैं.

ट्रैक अंग्रेजी के आठ के आकार में बना हुआ है. रिवर्स पार्किंग में अग्रेंजी अक्षर एच बनाकर वाहन चालक को दिखाना होगा. ऑटोमेटिक टेस्टिंग ट्रैक प्रभारी अतुल दीक्षित ने तहा कि ऑटोमेटिक टेस्टिंग ड्राइविंग ट्रैक पर पहली बार टेस्ट देने आ रहे ड्राइवर का आत्मविश्वास बढ़े और ट्रैक का डर निकले. ट्रैक प्रभारी अतुल ने आगे बताया  कि दिसंबर 2020 से 8 फरवरी 2021 तक हुए 824 टेस्ट हुए है जिसमें से कि 549 आवेदक पास बाकी के बचे हुए यानी कि 275 आवेदक टेस्ट में फेल हो गए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें