विकास दुबे पर फिल्म बना रहे निर्माता-निर्देशक को नोटिस, पत्नी ने जताई आपत्ति

Smart News Team, Last updated: Sat, 16th Jan 2021, 10:29 PM IST
  • विकास दुबे पर बन रही फिल्म हनक के लेखक, डायरेक्टर, प्रोड्यूसर को लीगल नोटिस भेजा गया है. विकास दुबे की पत्नी के अधिवक्ता ने आरोप लगाया है कि पीड़ित परिवार से बिना इजाज़त लिए फिल्म का निर्माण किया जा रहा है.फिल्म मृदुल की लिखी हुई किताब ' मै कानपुर वाला' पर आधारित है. 
विकास दुबे पर फिल्म बना रहे निर्माता-निर्देशक को नोटिस, पत्नी ने जताई आपत्ति

कानपुर: कानपुर में पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए विकास दुबे पर बन रही फिल्म हनक के लेखक, डायरेक्टर, प्रोड्यूसर को लीगल नोटिस भेजा गया है. विकास दुबे की पत्नी के अधिवक्ता ने आरोप लगाया है कि पीड़ित परिवार से बिना इजाज़त लिए फिल्म का निर्माण किया जा रहा है. यह भी आरोप है कि विकास दुबे की पत्नी रिचा के बारे में यह अफवाह फैलाई जा रही है कि उन्होंने 50 लाख रुपए में फिल्म की प्रसारण व पुस्तक के प्रकाशन का अधिकार बेचे है. विकास दुबे की पत्नी रिचा के अधिवक्ता इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के महासचिव प्रभाशंकर मिश्र ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया को यह जानकारी दी है.

उन्होंने बताया कि उत्पादन मुख्यालय लिमिटेड (यूके) सरकार प्रोडक्शन इंडिया एलएलपी के साथ मिलकर हनक नाम की एक फिल्म व वेब सीरीज बना रहे हैं. इस फिल्म के लेखक मृदुल कपिल है. यह फिल्म मृदुल की लिखी हुई किताब ' मै कानपुर वाला' पर आधारित है. उनकी यह पुस्तक 10 जुलाई 2020 को पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में मारे गए विकास दुबे की कहानी पर आधारित है. इस मुठभेड़ की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर न्यायमूर्ति बीएस चौहान की अध्यक्षता में एक जांच आयोग की स्थापना की गई थी. 

पाटलिपुत्र विवि का घाटे का बजट पारित, एक सप्ताह में लंबित नतीजे होंगे प्रकाशित

अधिवक्ता प्रभाशंकर मिश्र ने बताया कि मैं कानपुर वाला पुस्तक के लेखक मृदुल कपिल और वेब सीरीज बनाने वाले इस बायोपिक को झूठे और मनगढ़ंत तथ्यों को पेश कर उनके मुवक्किल की प्रतिष्ठा को बदनाम करेंगे. उन्होंने हनक फिल्म के प्रोड्यूसर मोहन नदार, डायरेक्टर मनीष वात्सल्य, लेखक मृदुल कपिल समेत एक दर्जन से ज़्यादा लोगों को लीगल नोटिस भेजा है.साथ ही गृह मंत्रालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को भी नोटिस की कॉपी भेज कर कहा है कि अगर इसके प्रकाशन और प्रसारण पर रोक नहीं लगी तो वह कोर्ट का सहारा लेंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें