राहत! 80 टन ऑक्सीजन के साथ पं. बंगाल से कानपुर पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस

Smart News Team, Last updated: Sun, 9th May 2021, 2:04 PM IST
पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से चलकर सुबह कानपुर पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन अपने साथ 80 मैट्रिक टन लिक्विड ऑक्सीजन लाया है. 80 मैट्रिक ऑक्सीजन में से कानपुर को 48 मेट्रिक टन दिया जाएगा. बाकी बचे हुए ऑक्सीजन सुल्तानपुर, अमेठी, रायबरेली, सैफई जैसे शहरों के लिए रवाना कर दिया गया है.
80 टन लिक्विड ऑक्सीजन लेकर कानपुर पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस. (फाइल फोटो)

कानपुर : उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से 80 टन लिक्विड ऑक्सीजन के चार बड़े कंटेनर लेकर ऑक्सीजन एक्सप्रेस रविवार सुबह 10 बज कर 30 मिनट पर कानपुर के जूही यार्ड पर पहुंची है. ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन का स्वागत उत्तर प्रदेश सरकार के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने किया. इस ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन से चार ऑक्सीजन कंटेनर आए हैं . हर एक कंटेनर में 20 ट लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन भरा हुआ है. 

चारों कंटेनर को एक बड़े क्रेन की मदद से उतार कर जिला प्रशासन द्वारा ट्रक पर लोड करवाया गया. कानपुर प्रशासन के अनुसार इन सभी लिक्विड ऑक्सीजन को कानपुर के अलावा सुल्तानपुर अमेठी रायबरेली इटावा जैसे दूसरे शहरों में भी भेजा जाएगा. औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि कानपुर समेत कई आसपास के जिलों में मरीजों के लिए ऑक्सीजन की कमी को दूर कर दिया जाएगा. मंत्री ने कहा कि कानपुर को रोज 80 टन ऑक्सीजन दी जाएगी.कानपुर से ही पड़ोसी जिलों को भी ऑक्सीजन उपलब्ध कराई जाएगी. 

कानपुर के लोगों को राहत! इतने समय में पूरी हो जाएगी ऑक्सीजन की कमी

इस तरह सभी जिलों में ऑक्सीजन की कमी को पूरा कर दिया जाएगा. फिलहाल रविवार सुबह 10 बज कर 30 मिनट पर पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस के 80 टर्न लिक्विड ऑक्सीजन में से कानपुर शहर को 48 टन लिक्विड ऑक्सीजन, अमेठी रायबरेली सुल्तानपुर को 5 टन ऑक्सीजन, सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी को 10 मैट्रिक टन, जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज को 7 मीट्रिक टन ऑक्सीजन कानपुर से रवाना कर दी गई है.

फैलते कोरोना पर HC परेशान, UP सरकार से मांगी संक्रमण रोकने की योजना

योगी सरकार का फैसला, कोरोना संक्रमित के अंतिम संस्कार को देगी 5 हजार

शादी में खाना बनाने गई महिला की संदिग्ध अवस्था में मौत, रेप और हत्या का आरोप

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें