बिकरू कांड: विकास दुबे के माता-पिता पहुंचे गांव,पड़ोसी के घर में खुद को किया कैद

Smart News Team, Last updated: Sat, 9th Jan 2021, 10:26 AM IST
  • बिकरू कांड के आरोपित विकास दुबे के माता-पिता छह महीने बाद गांव पहुंचे. जहाँ पर उन्होंने ग्रामीणों और मीडिया के सवालो से परेशान होकर खुद को पडोसी के घर में कैद कर लिया.
विकास दुबे के माता-पिता पहुंचे गांव,पड़ोसी के घर में खुद को किया कैद

कानपुर. कानपुर के बिकरू कांड को हुए 6 महीने बीत चुके है. इतने महीनों बाद विकास दुबे के माता-पिता वापस बिकरू गांव लौटे है और लौटते ही दोनों ने अपने घर के पड़ोसी उमाशंकर शुकसला के घर में अपने आपको कैद कर लिया है. दरअसल उन्होंने ने ये फैसला ग्रामीणों और मीडिया के सवालो से परेशान होकर किया है. दोनों दम्पति गांव में दो दिन पहले ही पहुचे है. जिसके बाद से दोनों से ग्रामीण और मीडिया उनसे तरह तरह के सवाल पूछ रहे है जिसका जवाब देते देते वह जब थक गए तो उन्होंने ने ये कदम उठाया है.

इतना ही नहीं उमाशंकर के घर वालों ने बताया कि दोनों कि तबियत खराब है और इनकी दवाई कानपुर से हो रही है. तो वहीं विकास दुबे के माता-पिता का कहना है कि ग्रामीणों और मीडिया के सवालों से उनकी पीड़ा और बढ़ जाती है. बिकरू कांड के छह महीने बाद वापस लौटे अपने ग्राम रामकुमार दुबे और सरला देवी ने पडोसी उमाशंकर के घर में शरण लिया है, क्योकि घटना के बाद पुलिस ने उनके घर को जमींदोज कर दिया था.

बिकरू कांड : सभी 25 आरोपितों पर लगेगा एनएसए

जानकरी के अनुसार विकास दुबे के माता-पिता अपनी बेटी और दामाद के यहां पर रहने गए थे, लेकिन उन्होंने अपने यहां पर पनाह देने से इंकार कर दिया जिसके बाद दोनों दम्पति वापस बिकरू ग्राम लौट आए. गांव वापस लौटने ने दोनों से ग्रामीणो और मीडिया ने कई सवाल पूछने के लिए पहुंचने लगे. जिसके चलते सुबह से शाम तक उमाशंकर के घर के पास भीड़ लगी रहती है. इसी के चलते विकास दुबे के माता-पिता गुरुवार को घर से बहार ही नहीं निकले. वहीं बिकरू कांड के संबंध में ही उमाशंकर जेल में बंद है.

कानपुर में दो सर्राफा व्यापारियों को लूटा, बदमाश तीन लाख के जेवर लेकर फरार

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें