हैलेट में नर्सिंग होम से बिना रेफरल भर्ती हुआ मरीज, कम था ऑक्सीजन लेवल, मौत

Smart News Team, Last updated: Thu, 22nd Oct 2020, 12:21 PM IST
  • कानपुर के हैलेट अस्पताल में एक बार फिर बिना रेफरल के मरीज को भेजा गया. जिसके चलते लो ऑक्सीजन लेवल होने के बाद भी मरीज को साधारण एंबुलेंस से भेजा गया. जिसके बाद अस्पताल में भर्ती होने के दो घंटे के अंदर ही मरीज की मौत हो गई. 
हैलेट में नर्सिंग होम से बिना रेफरल भर्ती हुआ मरीज, कम था ऑक्सीजन लेवल, मौत

कानपुर: जिले में मरीजों की स्थिति गंभीर होने पर बिना रेफरल और सूचना के हैलट अस्पताल में भेज रहे हैं. ऐसा ही एक मामला फिर से सामने आया है. जिसमें काकादेव के नर्सिंग होम ने कोरोना संक्रमित युवक को 56 फीसदी ऑक्सीजन लेवल और गंभीर होने पर हैलट के न्यूरो कोविड हॉस्पिटल में सामान्य एम्बुलेंस से भेज दिया. जिसके चलते डॉक्टरों ने इलाज तो शुरू किया लेकिन युवक की दो घंटे के बाद मौत हो गई. इस मामले में नर्सिंग होम प्रबंधन तंत्र का दावा है कि मरीज को शिफ्ट करने को कमाण्ड कंट्रोल सिस्टम को मंगलवार को सुबह ही सूचना दे दी गई थी.

जानकारी के मुताबिक अनवरगंज के युवक का बीते 16 अक्तूबर से काकादेव के कुलवंती नर्सिंग होम में इलाज चल रहा था. नर्सिंग होम के डॉक्टरों ने कोविड टेस्ट 19 अक्तूबर को कराया जिसकी रिपोर्ट 19 को ही देर रात आई लेकिन मरीज को मंगलवार को देरशाम को हैलट के न्यूरो कोविड में हालत बिगड़ने पर सामान्य एम्बुलेंस से भेज दिया गया. जबकि उसे एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस से भेजा जाना चाहिए था.

कानपुर: हैलेट में कोरोना के डर से OPD में दिखाने नहीं पहुंच रहे नॉन कोविड मरीज

वहीं,जीएसवीएममेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो. आरबी कमल का कहना है कि मरीज की हालत बेहद नाजुक थी. फिर भी कुलवंती नर्सिंग होम ने सूचना और रेफरल तक नहीं दिया. मरीज का 56 फीसद ऑक्सीजन लेवल पर था. चार दिन तक इलाज किया गया फिर मौत हैलट के मत्थे मढ़ दी गई. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि युवक का इलाज मैनेज नहीं हो रहा था तो क्या मरीज को हैलट पहले दिन ही नहीं भेजा जा सकता था. नर्सिंग होम की लापरवाही से मरीज की मौत हो गई. 

कानपुर: कोरोना के कारण रुका हैलट बर्न यूनिट का काम शुरू, 2 करोड़ रुपये जारी

इस मामले में कुलवंती के सीएमएस डॉ.राजन गांधी का कहना है कि उनके यहां से 99 फीसद ऑक्सीजन पर मरीज हैलट भेजा गया था. सांस की तकलीफ शुरू होने पर ही 19 नर्सिंग होम संचालक अभी भी कोरोना अक्तूबर को मरीज का कोरोना टेस्ट कराया गया था. जिसकी रिपोर्ट न्यू लीलामणि ने रात में ही दे थी. इसलिए सुबह कंट्रोल रूम को सूचना दे दी गई थी. मंगलवार को सुबह पौने दस बजे कमांड कंट्रोल से हैलट में शिफ्ट की सूचना भी दी गई लेकिन शाम को 5 :40 बजे पर कुलवंती से ले जाया गया. तीमारदारों और कमांड को रेफरल लेटर भी दिया गया था पर उन्होंने हैलट को क्यों नहीं दिया, इसकी जानकारी नहीं है। मौत तो रात 11 बजे के करीब बताई जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें