कानपुर के लोगों का शासन-प्रशासन पर टूटा भरोसा, खुद ही बिछाई 200 मीटर सीवेज लाइन

Smart News Team, Last updated: 27/10/2020 02:49 PM IST
नौबस्ता चंदी पुरवा के राधापुरम क्षेत्र के लोग काफी समय से समस्या से जूझ रहे थे। कई बार जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों से गुहार लगाई, शासन तक भी अपनी आवाजें पहुंचाई, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई। थकहारकर स्वयं ही कमर कस तैयार हो गए और ऐसा काम करके दिखाया कि नगर निगम से लेकर शासन तक अचंभित हैं
कानपुर के राधापुरम के लोगों ने खुद ही अपनी समस्या दूर करने के लिए कमर कस ली. 

कानपुर.कानपुर के राधापुरम के लोगों का शासन-प्रशासन पर भरोसा टूटने लगा है. लोग अपनी मुसीबतों को दूर करने के लिए खुद ही कमर कस लिए हैं. यही वजह है कि वर्षों से दूषित जलभराव और गंदगी की समस्या से जूझ रहे लोगों ने 200 मीटर सीवेज लाइन खुद ही बिछा दी. इसके लिए उन्होंने शासन-प्रशासन से एक रुपए लिए बिना आपसी चंदा करके इंतजाम कर लिया.

कानपुर के नौबस्ता चंदी पुरवा के राधापुरम क्षेत्र के लोग काफी समय से समस्या से जूझ रहे थे. कई बार जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों से गुहार लगाई, शासन तक भी अपनी आवाजें पहुंचाई, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई. थकहारकर उन्होंने स्वयं ही समस्या दूर करने के लिए कमर कसकर तैयार हो गए और ऐसा काम करके दिखाया कि नगर निगम से लेकर शासन तक अचंभित हैं.

यूपी उपचुनाव: साक्षी महाराज बोले- आबादी के अनुपात में हों श्मशान-कब्रिस्तान

सोसाइटी क्षेत्र राधापुरम सात साल पहले बसाया गया था। इलाके में सीवर लाइन न बिछी होने से दूषित पानी खाली प्लाटों में भरा जाता था. इससे लोग तमाम तरह की बीमारियों से ग्रस्त हो रहे थे. परेशान लोगों ने समस्या निदान के लिए पार्षद से आग्रह किया, प्रशासन में शिकायती पत्र दिए लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई. क्षेत्रीय विधायक एवं कैबिनेट मंत्री से भी मिलकर समस्या निदान की गुहार लगाई, लेकिन कुछ नहीं हुआ.

करीब एक महीने पहले आसपास के 23 घरों के लोग आपस में 10 से 13 हजार रुपये चंदा देकर ढाई लाख रुपये इकट्ठा किए. इस पैसे से श्रमिकों को लगाकर 200 मीटर तक की लाइन डाल दी और उसे नाले में जोड़ दिया. आवासीय नाला टूटा हुआ था. बहुत गंदगी जमा थी. उसे साफ कराकर उसमें लाइन जोड़ी गई. इसके साथ ही क्षेत्र में दो स्ट्रीट लाइट भी लगा दी गई. अब लोगों के घरों का सीवर का पानी आसानी से आवास विकास के नाले में जा रहा है. इससे उत्साहित लोगों ने अब तय किया है कि इंटरलाकिंग टाइल्स लगाने का काम भी स्वयं करेंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें