पर्सनल लॉ बोर्ड ने सादगी से निकाह के लिए चलाया अभियान, सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

Smart News Team, Last updated: Mon, 15th Mar 2021, 1:57 PM IST
  • ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मसनून निकाह यानी सादगी से निकाह करने का अभियान शुरू किया है. 14 मार्च को इसके लिए देशभर में यह मुहिम चलाने का फैसला लिया गया. सोशल मीडिया की मदद से इस अभियान को देशभर में फैलाया जा रहा है.
फोटो साभार: एआईएमपीएलबी फेसबुक

कानपुर। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड यानी एआईएमपीएलबी ने बीते रविवार से पूरे देशभर में आसान और मसनून निकाह यानी सादगी से निकाह करने का अभियान शुरू किया है. इसका उद्देश्य शादियों में होने वाली फिजूलखर्ची को खत्म करना है. बोर्ड ने इस अभियान को बढ़ाने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है.

लॉ बोर्ड ने शादी में होने वाली फिजूलखर्ची को रोकन एक बड़ी तहरीक की जरूरत बताई थी. 14 मार्च को इसके लिए देशभर में यह मुहिम चलाने का फैसला लिया गया. इस अभियान को 23 मार्च तक पूरे देशभर में इसलाहे मआशरा यानी समाज सुधार से जुड़ी इकाइयों के माध्यम से चलाया जाएगा. ऐसा पहली बार हुआ है कि इसके लिए सोशल मीडिया की मदद से इस अभियान को देशभर में फैलाया जा रहा है.

 

📢📜📢📜📢📜📢📜📢📜 इस्लाहे मुआशरा कमेटी ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के तत्वावधान में अखिल महाराष्ट्र दस दिवसीय अभियान...

Posted by All India Muslim Personal Law Board on Sunday, March 14, 2021

कानपुर : बंद पड़े मकानों की रैकी कर चोरी करने वाले गैंग के छह सदस्य अरेस्ट

लॉ बोर्ड ने इसलाहे मआशरा कमेटियों से कहा कि वह निकाह मस्जिदों में सादगी से कराने के लिए लोगों को जागरूक करें. लड़की पक्ष अपने यहां दावते ना करें. दावत को केवल वलीमा (लड़का पक्ष की ओर से रिसेप्शन) तक सीमित रख सकते हैं.लोगों को यह बताया जाए कि शरीयत में निकाह को आसान बताया गया है. खुद गैरजरूरी रस्मो और तमाम बातों को शामिल कर इसे खर्चीला न बनाएं.

कानपुर में अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा का दो दिवसीय अधिवेशन 14 मार्च से

इस अभियान के तहत सचिव मौलाना उमरीन रहमानी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिसमें उन्होंने लोगों को शरीयत के एतबार से निकाह करने का पैगाम दिया है. जिसके बाद इसका असर पूरे देशभर में दिखने लगा. कई लोगों ने मस्जिद में निकाह करते हुए भी अपनी पोस्ट शेयर की है. सोशल मीडिया के साथ साथ मस्जिदों में हर नमाज में तकरीर करके भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें