जाजमऊ के राजा ययाति के किले से अवैध कब्जा हटाने की तैयारी, पुलिस आयुक्त ने पुरातत्व विभाग को लिखा पत्र

Anurag Gupta1, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 11:45 AM IST
  • कानपुर के जाजमऊ स्थित राजा ययाति के किले से अवैध निर्माण हटाने की तैयारी तेज. पुलिस अयुक्त असीम अरूण ने पुरातत्व विभाग को पत्र लिखकर तारीख व समय तय करने को कहा. जो तारीख पुरातत्व विभाग तय करेगा उस पर पर्याप्त पुलिस बल देकर अवैध कब्जा हटवाएंगे.
(फाइल फोटो)

कानपुर. कानपुर के जाजमऊ स्थित राजा ययाति के किले को खाली कराने की कवायद तेज हो गई है. राजा ययाति के किले को खाली कराए जाने को लेकर पुलिस कमिश्नरेट ने पहल की है। पुलिस आयुक्त असीम अरूण ने राज्य पुरातत्व विभाग को पत्र लिखकर कहा है कि किला ऐतिहासिक है, जिससे अवैध कब्जा हटाना जरूरी है. इसलिए पुरातत्व विभाग तारीख व समय तय करें, अवैध कब्जा हटाने के लिए पर्याप्त पुलिस बल उपलब्ध कराया जाएगा.

इस किले पर अवैध कब्जे की शिकायत साल 2017 में अधिवक्ता संदीप शुक्ला ने की थी. जिसके बाद मामला संज्ञान में आया था. जिस पर जिला प्रशासन, पुलिस, राजस्व विभाग और एएसआइ सभी विभागों ने अलग-अलग जांचें की. हर जांच में यहीं पता चला कि इस किले को भूमाफिया पप्पू स्मार्ट व उसके परिजनों ने कब्जा लिया था. बाद में उन्होनें किले की जमीन लोगों को बेचकर वहां पर बस्ती बसा दी. भूमाफिया पप्पू पिंटू सेंगर हत्याकांड के मुख्य आरोपी है.राजा ययाति का किला राज्य पुरातत्व विभाग द्वारा वर्ष 1968 से संरक्षित है, लेकिन इसकी ओर ध्यान न देने की वजह से इस पर अवैध निर्माण हो गया और धीरे धीरे किले को नष्ट करके बस्ती बसा दी गई.

Manish Gupta Murder Case: फरार पुलिसकर्मियों को पकड़वाने वाले को 25-25 हजार ईनाम देगी यूपी पुलिस

पुरातत्व विभाग ने लिया संज्ञान:

भारतीय पुरातत्व विभाग ने राजा ययाति के किले पर अवैध कब्जे को लेकर संज्ञान लिया था. पुरातत्व विभाग ने जिला प्रशासन व पुलिस को पत्र लिखकर किले में अतिक्रमण होने व उसे खाली कराए जाने का अनुरोध किया था. जिसको प्रमुखता से लेते हुए पुलिस आयुक्त असीम अरूण ने राज्य पुरातत्व विभाग को पत्र लिखकर कहा है कि उनके पत्र के हिसाब से लग रहा है कि ये एक ऐतिहासिक धरोहर है. इस पर से अवैध कब्जा हटाना जरूरी है. अब पुरातत्व विभाग समय व तारीख तय करें, विभाग की तय तारीख के अनुसार खाली कराने के लिए पर्याप्त पुलिस बल उपलब्ध करा दिया जाएगा. पुलिस आयुक्त ने मामले को लेकर जिला प्रशासन से बात करने की बात कही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें