कानपुर में मेगा लेदर पार्क को मोदी सरकार की मंजूरी, CM योगी का ड्रीम प्रोजेक्ट

Smart News Team, Last updated: Mon, 28th Dec 2020, 11:13 PM IST
  • कानपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट मेगा लेदर पार्क बनाने की मंजूरी मोदी सरकार ने दे दिया है. जिसपर जल्द ही काम शुरू हो सकता है. इस मेगा लेदर क्लस्टर प्रोजेक्ट को करीब 13 हजार करोड़ के निवेश की लागत से बनाया जाएगा.
CM योगी ने 18 आवासीय व अनावासीय भवनों का लोकार्पण किया

कानपुर. कानपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट मेगा लेदर पार्क बनाने की मजूरी केंद्र के वणिज्य विभाग से मिल गई है. जिसके बाद कानपुर के रमईपुर गांव में मेगा लेदर क्लस्टर प्रोजेक्ट शुरू होगा. जिसे 235 एकड़ में 5850 करोड़ रुपए के निवेश से बनाया जाएगा. इसके बन जाने के बाद करीब पचास हजार लोगो को रोजगार भी मिलेगा. बताया जा रहा है कि कानपुर में मेगा लेदर क्लस्टर प्रोजेक्ट सीएम योगी का ड्रीम प्रोजेक्ट है. जिसकी आधार शिला जल्द ही मुख्यमंत्री रखेंगे और मेगा लेदर क्लस्टर डेवलपमेंट यूपी लिमिटेड कंपनी यहां पर विकास कार्य शुरू करेगी.

कानपुर के रमईपुर में जल्द ही सबसे बड़ी चमड़े की फैक्ट्री खुलने जा रही है. इसके बन जाने के बाद गंगा में होने वाले प्रदूषण का मुद्दा भी खत्म हो जाएगा. कानपुर ने जो अपनी विश्वव्यापी पहचान खो दी थी, वह अब मुख्यमंत्री योगी के इस ड्रीम प्रोजेक्ट के पूरा हो जाने के बाद दोबारा मिल सकेगी. आपको बता दे कि कानपुर को एक समय पूरब का मैनचेस्टर कहा जाता था, लेकिन अब इससे दुनिया के सबसे प्रदूषित शाहरों में गिना जाने लगा है.

यूपी में न्यू ईयर 2021 की पार्टी करने से पहले जान लें योगी सरकार के नियम वरना...

सीएम योगी के इस ड्रीम प्रोजेक्ट में 5850 करोड़ रूपये का निवेश होना है. वहीं पुरे मेगा लेदर क्लस्टर पार्क में करीब 13 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा. इस लेदर पार्क को हर तरह के सुविधाओं से लैस किया जाएगा. इसमें सभी उत्पादकों के प्रदर्शन की व्यवस्था के साथ उत्पादों को खरीदने आने वाले निवेशकों के रहने और खाने की व्यवथा भी रहेगी.

कानपुर : एनएसआई में बनेगा म्यूजियम, देख पाएंगे सौ साल पुरानी चीनी मशीनें

वहीं इस लेदर पार्क के बन जाने के बाद करीब 50 हजार लोगो रोजगार मिलने की भी आशंका है. जबकि इससे भी ज्यादा लोगो को परोक्ष रूप से रोजगार मिल सकेगा. साथ ही इस लेदर पार्क में चमड़े से बने जुटे, पर्स, जैकेट से लेकर बाकि विश्स्तरीय उत्पाद का उतपदं कर निर्यात किया जाएगा. वहीं इस पार्क में 150 इकाइयां एक साथ मिलकर काम करेंगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें