पेट्रोल पंप पर काम करने वाले की बेटी ने पूरा किया पिता का सपना, IIT कानपुर में हुआ एडमिशन

Somya Sri, Last updated: Thu, 7th Oct 2021, 1:45 PM IST
  • इंडियन ऑयल के पेट्रोल पंप पर काम करने वाले राजगोपालन की बेटी आर्या ने आईआईटी कानपुर में प्रवेश लिया है. आर्या ने एक ऐसे विषय में एडमिशन लिया है, जो हमेशा से उसके जीवन से जुड़ा रहा है. जिस पेट्रोल पंप पर उसके पिता काम करते हैं. बेटी आर्या ने उसी पेट्रोल से जुड़े पेट्रोलियम प्रौद्योगिकी विषय में प्रवेश लिया है.
पेटोल पंप कर्मचारी राजगोपाल अपनी बेटी आर्या के साथ. (फोटो साभार- सोशल मीडिया, ट्वीटर)

कानपुर: कहते हैं जहां चाह वहां राह. मतलब अगर चाहत है कुछ कर गुजरने की तो रास्ते में चाहे कितने ही मुश्किलें क्यों न आये इंसान अपने मंजिल तक पहुंच ही जाता है. ये बातें पेटोल पंप कर्मचारी राजगोपाल की बेटी आर्या राजगोपाल पर फिट बैठती है. आर्या ने अपनी मेहनत और लगन से आईआईटी कानपुर में प्रवेश लिया है. आर्या के पिता करीब 20 सालों से पेट्रोल पंप पर काम कर रहे हैं. आज उनकी बेटी ने आईआईटी कानपुर में प्रवेश तो लिया ही है. साथ ही आर्या ने एक ऐसे विषय में एडमिशन लिया है. जो हमेशा से उसे जीवन से जुड़ा रहा है. जिस पेट्रोल पंप पर उसके पिता काम करते हैं. बेटी आर्या ने उसी पेट्रोल से जुड़े पेट्रोलियम प्रौद्योगिकी विषय में प्रवेश लिया है.

मालूम हो कि बाप बेटी की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है. सबसे पहले इस बात की जानकारी खुद इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के चेयरमैन श्रीकांत माधव वैध ने दी. उन्होंने अपने ट्विटर पर फोटो शेयर करते हुए लिखा कि, " मैं इंडियन ऑयल के पेट्रोल पंप पर काम करने वाले राजगोपालन की बेटी आर्या की प्रेरक कहानी शेयर कर रहा हूं. आर्या ने आईआईटी कानपुर में प्रवेश पाकर हमें गौरवान्वित किया है. आर्या को शुभकामनाएं."

IIT कानपुर बना रहा स्पेशल रोबोट, शरीर में जाकर बीमारी का लगाएगा पता

बता दें कि यह पहली ऐसी खबर नहीं है जब किसी की मेहनत ने उसे पहचान दिलाई हो. इससे पहले भी कई खबरे सामने आती रही हैं, जब मेहनत के सामने संसाधन झुकता रहा है. कम सुख-सुविधाओं और कम संसाधनों के बीच भी युवाओं ने अपनी मेहनत का परचम लहराया है और एक मुकाम हासिल किया है. ऐसी कई खबरे सामने आती है जैसे चाय वाले का बेटा या ऑटो चालक के बेटे ने आईआईटी क्रैक कर लिया है. आज भी एक पेट्रोल पंप की बेटी का आईआईटी में प्रवेश पाने का सपना पूरा हो गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें