ट्रेन में लावारिस मिले 1.40 करोड़ का दावा करने वाली कंपनी ने 5 महीने बाद भी नहीं दिए इन 7 सवालों के जवाब

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Jul 2021, 2:52 PM IST
फरवरी माह में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एक्सप्रेस में मिले 1.40 करोड़ रुपए का दावा करने वाली कंपनी ने अभी तक 7 सवालों के जवाब नहीं दिए हैं. जिस कारण इनकम टैक्स भरने के बावजूद आयकर विभाग में रुपए रिलीज नहीं किए हैं.
स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एक्सप्रेस में लावारिस ट्रॉली बैग में मिले 1.40 करोड़ रुपए

कानपुर. फरवरी माह में चलती ट्रेन की पैंट्री कार में मिले लावारिस 1.40 करोड़ रुपये की जांच कर रहे आयकर विभाग ने टैक्स जमा होने के बाद भी रुपये रिलीज नहीं किए हैं. दरअसल, भारी टर्नओवर के बावजूद कंपनी आयकर विभाग के कुछ सवालों के जवाब आजतक नहीं दे सकी है.इसलिए रुपयों पर क्लेम करने वाली कंपनी को विभाग ने क्लीन चिट भी नहीं दी है.

आपको बता दें कि फरवरी में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एक्सप्रेस में लावारिस ट्रॉली बैग में 1.40 करोड़ रुपये मिले थे. इस रकम पर गाजियाबाद की एक कंपनी बीएसफोर ने करीब 13 दिन बाद दावा किया. जबकि पहले कंपनी ने इन रुपयों को अपना बताने से इंकार कर दिया था. फिर अचानक इंकार के दो दिन बाद 1 मार्च को कंपनी के कर्मचारी लेजर बुक और बहीखाते लेकर आयकर विभाग पहुंच गए. आयकर विभाग की पूछताछ में कंपनी ने स्वीकार किया कि इस रकम पर टैक्स नहीं दिया था. कंपनी ने दावा किया कि इस रकम से कर्मचारियों को बोनस आदि का भुगतान करना था.इसके बाद जब आयकर विभाग ने पूछा कि सीधे कर्मचारियों के बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर क्यों नहीं किए तो संतोषजनक जवाब नहीं मिला.

छुट्टी लेकर लापता हुए उन्नाव सीओ,पुलिस ने महिला सिपाही संग कानपुर होटल में पकड़ा

इसके बाद कंपनी ने परेशानी से बचने के लिए 74 लाख रुपए इनकम टैक्स के रूप में जमा कर दिए. लेकिन इसके बावजूद आयकर विभाग ने 1.40 करोड़ रुपए रिलीज नहीं किए. क्योंकि आयकर विभाग के कुछ सवालों का जवाब कंपनी के प्रतिनिधि आजतक नहीं दे सके हैं। आयकर विभाग ने कंपनी से निम्न प्रश्न पूछे थे.

1. करोड़ों रुपए से भरा बैग लावारिस क्यों छोड़ा?

2. डिप्टी एसएस कामर्शियल के कंट्रोल रूम पर रेलवे इंटरकाम से 15 फरवरी की रात 2 बजे किसने फोन किया?

3. बैग की डिलीवरी देने के लिए रेलवे इंटरकाम पर फिर फोन किसने किया?

4. कर्मचारियों द्वारा आईडी पूछने पर फोन करने वाले ने आरपीएफ के कंट्रोल रूम पर एडीजी रेलवे बनकर फोन क्यों किया?

5. लगातार नाम बदलकर फोन क्यों किए गए?

6. पैसे का रेलवे गेस्ट हाउस कनेक्शन क्या है?

7. क्या ये पैसा कमीशन का है?

इन सभी सवालों के कंपनी कोई जवाब नहीं दे सकी. आयकर विभाग ने जीआरपी से इस मामले में फाइनल रिपोर्ट मांगी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें