अजब-गजब: बुलेट के साइलेंसर से निकलने वाली आवाज को नहीं पहचान पा रही RTO

Somya Sri, Last updated: Fri, 15th Oct 2021, 9:50 AM IST
  • कानपुर आरटीओ अफसर का कहना है कि बुलेट के साइलेंसर से निकलने वाली आवाज ध्वनि प्रदूषण की तरह मानकों से अधिक पाई गई है. हालांकि इस मामले में आरटीओ भी काफी असमंजस की स्थिति में है. इसलिए उन्होंने 34 बुलेट मालिकों को नोटिस भी भेज दिया है ये बताने के लिए कि बुलेट में लगा साइलेंसर कंपनी का है या फिर बाहर से लगवाया गया है. सच्चाई जानने के बाद ही बुलेट मालिकों से जुर्माना वसूला जाएगा.
बुलेट वाहन (फाइल फोटो)

कानपुर: बुलेट वाहनों के साइलेंसर से निकलने वाली आवाज को आरटीओ के अफसर नहीं पहचान पा रही है. इस वजह से पिछले 24 दिनों में करीब 34 बुलेट के चालान काटे गए. क्योंकि आरटीओ अफसर का कहना है कि इन बुलेट के साइलेंसर से निकलने वाली आवाज ध्वनि प्रदूषण की तरह मानकों से अधिक पाई गई है. हालांकि इस मामले में आरटीओ भी काफी असमंजस की स्थिति में है. इसलिए उन्होंने 34 बुलेट मालिकों को नोटिस भी भेज दिया है ये बताने के लिए कि बुलेट में लगा साइलेंसर कंपनी का है या फिर बाहर से लगवाया गया है. सच्चाई जानने के बाद ही बुलेट मालिकों से जुर्माना वसूला जाएगा.

बताया जा रहा है कि अगर बुलेट में लगा साइलेंसर कंपनी का ही होगा तो कोई जुर्माना नहीं लगेगा क्योंकि बुलेट कंपनियां वाहनों में साइलेंसर ध्वनि प्रदूषण के तय मानकों के आधार पर ही लगाती है. लेकिन इस पर परिवहन अफसरों का कहना है कि अगर वाहन मालिक की ओर से भेजे गए नोटिस पर जवाब में यह बात साबित होगा कि वाहनों में लगाए गए साइलेंसर बाहर से नहीं लगाया गया है. साथ ही कंपनी से लग कर आए साइलेंसर में भी कोई छेड़छाड़ नहीं हुई है. तो फिर बुलेट कंपनी को ध्वनि प्रदूषण के मानकों के उल्लंघन का नोटिस भेजा जाएगा.

कानपुर-दिल्ली रूट पर मालगाड़ी पलटी, शताब्दी समेत कई ट्रेनें रद्द, 71 ट्रेनों के रूट डायवर्ट

कानपुर नगर के एआरटीओ, प्रवर्तन सुनील दत्त ने कहा कि 34 बुलेट के चालान करने के बाद इनके मालिकों को नोटिस भेज दिया गया है।जवाब आने के बाद स्थिति साफ होगी. इसके बाद ही कार्यवाई का फैसला होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें