संजीत हत्याकांड: निलंबित सीओ सवालों पर झिझके, इंस्पेक्टर समेत कई के बयान दर्ज

Smart News Team, Last updated: Wed, 27th Jan 2021, 10:48 AM IST
  • कानपुर के संजीत अपहरण और हत्याकांड में लापरवाही बरतने पर आरोप में तत्कालीन एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता, सीओ मनोज गुप्ता समेत आठ पुलिस कर्मियों को निलंबित किया गया था. सोमवार को सभी के बयान दर्ज किए गए.
कानपुर संजीव हत्याकांड में लापरवाही बरतने वाले निलंबित सीओ सवालों पर झिझके.

कानपुर. कानपुर में दोस्तों के द्वारा कि गई संजीत अपहरण और हत्याकांड में लापरवाही का आरोप झेल रहे निलंबित सीओ (सर्किल ऑफिसर) मनोज गुप्ता को सफाई देने के लिए सोमवार को लखनऊ क्राइम एवं हेडक्वार्टर के ज्वाइंट कमिशभनर नीलाब्जा चौधरी ने तलब किया. अधिकारी के कड़े सवालों के जवाब देते वक्त कई बार निलंबित सीओ कुछ झिझके. उन्होंने अपने पक्ष में सफाई पेश की उन्होंने संजीत को बचाने की पूरी कोशिश की, जिसे अधिकारी ने बयान के रूप में दर्ज किया. 

तलब किए गए वर्तमान बर्रा इंस्पेक्टर हरमीत सिंह, चूरन वाले नोट बेचने वाले दुकानदार नीरज के भी बयान दर्ज किए गए. संजीत अपहरण और हत्याकांड में पुलिस अधिकारियों को जानकारी दिए बिना ही अपहरण कर्ताओं को फिरौती की रकम देने और संजीत को बरामद करने में लापरवाही बरतने के आरोप में तत्कालीन एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता, सीओ मनोज गुप्ता समेत आठ पुलिस कर्मियों को निलंबित किया गया था. 

कानपुर: सपा की ट्रैक्टर रैली को पुलिस ने रोका, SP महिला प्रदेश सचिव BJP पर बरसीं

 बताते चलें कि 23 जुलाई को पुलिस ने वारदात का खुलासा कर बताया था कि उसके दोस्तों ने संजीत को 27 जून को ही मारकर शव नाले में फेंक दिया था. इसके बाद फिरौती मांगी थी. वारदात के बाद तत्कालीन एसएसपी का तबादला हुआ था.

क्या है मामला

कानपुर के बर्रा से 22 जून को लैब टेक्नीशियन संजीत यादव (28) का अपहरण फिरौती के लिए उसके दोस्त ने साथियों के साथ मिलकर किया था. 26 जून को उसकी हत्या कर लाश पांडु नदी में फेंक दी थी. इसके बाद पुलिस को चकमा देकर 13 जुलाई को 30 लाख की फिरौती भी वसूल ली थी. 23 जुलाई को रात पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए दोस्त कुलदीप, रामबाबू समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. 

कानपुर: पुलिस ने होटल से 10 प्रेमी जोड़ों को पकड़ा, होटल मैनेजर गिरफ्तार

कानपुर के बर्रा से अपहृत संजीत यादव कांड में आखिरी दिन तक पुलिस खुलासे के करीब रही. पता चला है कि संजीत के ही छह दोस्तों ने पैसों के लिए अपहरण किया था. पुलिस ने अस्पताल में काम करने वाले व कुछ बाहरी दोस्तों को पकड़ा फिर वहां से हत्यारों का पता लगा. 

देशभर के संस्थानों से मिलकर कानपुर का ये मेडिकल कॉलेज करेगा दिल-दिमाग पर रिसर्च 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें