विकास दुबे एनकाउंटर में ADM समेत 11 की होगी जांच, DM और DIG को भेजी रिपोर्ट

Smart News Team, Last updated: 06/02/2021 12:17 AM IST
  • विकास दुबे एनकाउंटर केस में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की कार्रवाई पर चल रही जांच में एडीएम समेत कुल 11 अधिकारियों को दोषी पाया गया है. उनके खिलाफ की गई प्रारंभिक जांच के बाद रिपोर्ट अब डीएम और डीआईजी को भेज दी गई है. इसमें उन लोगों के नाम भी जोड़े गए हैं
विकास दुबे एनकाउंटर केस में एसआईटी जांच में एडीएम समेत कुल 11 अधिकारियों को दोषी पाया गया है.(फाइल फोटो)

कानपुर. हिस्ट्रशीटर विकास दुबे एनकाउंटर केस में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की कार्रवाई पर चल रही जांच में एडीएम समेत कुल 11 अधिकारियों को दोषी पाया गया है. उनके खिलाफ की गई प्रारंभिक जांच के बाद रिपोर्ट अब डीएम और डीआईजी को भेज दी गई है. इसमें उन लोगों के नाम भी जोड़े गए हैंजिन्होंने विकास दुबे और उसके साथियों के असलाह की सत्यापना नहीं की थी जिसक कारण कुछ लोगो अपना असलाह रिन्यु करवाते रहे थे.

मामले की जांच कर रही एसआईटी के दायरे में इस समय कई पुलिसकर्मी हैं. इनमें पूर्व डीआईजी अनंत देव, पूर्व एडीएम सिटी विवेक श्रीवास्तव, पूर्व एसीएम हरिश्चन्द्र सिंह, रवि प्रकाश श्रीवास्तव, अभिषेक कुमार सिंह, पूर्व एसपी ग्रामीण प्रद्युम सिंह, राजेश सिंह यादव, पूर्व सीओ लाइन बीबी जीटीएस मूर्थी, आरआई लाइन जटाशंकर, हेड मुहर्रिर सतीश कुमार, पूर्व थाना अध्यक्ष चौबेपुर राकेश कुमार है. 

मेरठ: पुलिस और बदमाशों में हुई मुठभेड़, तीन को लगी गोली, चार दबौचे

एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में जो जानकारी दी है उसके अनुसार सन 2019 में सरकार निर्देश जारी करते हुए कहा था कि तमाम असलहा लाइसेंस उसका सत्यापन ठीक से करावा लिया जाए. लेकिन अधिकारी इस पर काफी सुस्त नजर आए और उन्होंने इस पर कोई काम नहीं किया. अधिकारियों के सत्यापन कार्य को ठीक ढंग से न कारण अपराधियों के लाइसेंस रिन्यू भी होते चले गए. एसआईटी की रिपोर्ट आईजी रेंज मोहित अग्रवाल को ने डीएम और डीआईजी को भेजी गई है.

स्टूडेंट का धर्म परिवर्तन कराने के बाद रूस जाने की फिराक में था ट्यूटर, अरेस्ट

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें