कानपुर: कड़ाके की ठंड से 6 लोगों की मौत, कई की हालत गंभीर, शिमला से भी कम तापमान

Ruchi Sharma, Last updated: Tue, 21st Dec 2021, 11:35 AM IST
  • कानपुर का न्यूनतम पारा शिमला के न्यूनतम 05.4, जम्मू 05.6 और कांगड़ा 05.0 से कम है. मौसम हर रोज तेजी से बदल रहा है. हाड़ कंपा देने वाली ठण्ड में एक नई चुनौती आ गई है. शहर में कड़कती ठंड का असर दिल के रोगी, दमा अस्थमा के रोगियों पर भारी पड़ रहा है जिसके चलते सोमवार को छह रोगियों की मौत हो गई.
कानपुर: कड़ाके की ठंड से 6 लोगों की मौत, कई की हालत गंभीर, शिमला से भी कम तापमान

कानपुर. जिले में मंगलवार को शिमला, जम्मू और कांगड़ा से भी ज्यादा सर्द हो गई. कानपुर का न्यूनतम तापमान शिमला के न्यूनतम 05.4, जम्मू 05.6 और कांगड़ा 05.0 से कम है. सोमवार को इनका अधिकतम पारा भी शहर के अधिकतम पारा से कम तो था लेकिन इसके करीब था. कानपुर में दिन का तापमान सामान्य से काफी कम 20.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया था. मौसम हर रोज तेजी से बदल रहा है. मौसम के इस बदलाव में फ्लू तेजी से बढ़ रहा है. जिसकी चपेट में लोग आ रहे हैं. हाड़ कंपा देने वाली ठण्ड में एक नई चुनौती आ गई है. शहर में कड़कती ठंड का असर दिल के रोगी, दमा अस्थमा के रोगियों पर भारी पड़ रहा है जिसके चलते सोमवार को छह रोगियों की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि दो रोगियों को क्रॉनिक दमा था जबकि अन्य रोगियों को हार्ट अटैक हुआ. वहीं ब्रेन अटैक के रोगी भी गंभीर हालत में हैलट में भर्ती हुए हैं. इसके साथ- साथ कोविड रोगियों की सांस की तकलीफ बढ़ गई है.

सर्दियों के मौसम में फ्लू या कोल्ड-कफ की समस्या बढ़ जाती है. इस मौसम में हमारा इम्यून सिस्टम भी कमजोर हो जाता है जिसकी वजह से इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है और बुखार, खांसी के रोगियों की भीड़ बढ़ जाती है.

छह लोगों की हुई मौत

जाजमऊ के रहने वाले अनीस (55) की उर्सला में मौत हो गई. वह दमा के रोगी रहे हैं. कल्याणपुर के किशोर (62) की क्षेत्र के निजी अस्पताल में मौत हुई है. आजाद नगर के रोगी घनश्याम (67) की हार्ट फेल होने से मौत हो गई. परिजनों के मुताबिक घनश्याम पोस्ट कोविड रोगी थे. गंभीर हालत में आए रोगियों को इमरजेंसी में भर्ती किया गया. फतेहपुर के राम अवतार (65) की कार्डियोलॉजी पहुंचने से पहले ही मौत हो गई. परिजनों ने बताया कि इलाज से स्थिति ठीक थी. तड़के तबियत बिगड़ी और लाते-लाते उनकी सांस थम गई. इसी तरह चौबेपुर से आए रोगी विष्णु कुमार (58) अस्पताल आते-आते खत्म हो गए. दिल्ली के अस्पताल में उन्हें एक महीने पहले पेसमेकर लगा था. फजलगंज के अशोक लाला (71) की हार्ट अटैक से मौत हुई.

ठंड में फ्लू के रोगी अधिक

डॉक्टर के मुताबिक ठंड में फ्लू के रोगी अधिक आ रहे हैं. डॉक्टरों ने खासतौर पर पुराने रोगियों को ठंड से बचाव की सलाह दी है. कार्डियोलॉजी के निदेशक डॉ. विनय कृष्णा ने बताया कि हार्ट के रोगी अपने डॉक्टरों से परीक्षण कराकर दवा की डोज दुरुस्त करा लें. ठंड बढ़ने के साथ कार्डियोलॉजी आने वाले रोगियों की संख्या सैकड़ा पार कर गई है. सोमवार को यहां 130 रोगी भर्ती हुए. ये रोगी सीने में दर्द, सांस फूलने, एंजाइना की शिकायत लेकर आए.

 

मोदी सरकार के शादी की उम्र बढ़ाने के फैसले पर AIMPLB और देवबंद ने जताया विरोध

 

सुबह से ही अलाव का सहारा

ठिठुरन और गलन भरी इस सर्दी में लोगों को अलाव का सहारा लेना पड़ रहा है. सुबह से ही लोग गर्म कपड़ों से अपनों को ढके अलाव के आसपास रहे ताकि किसी तरह शीतलहर से बचा जा सके. इस दौरान घरों में कोयला, लकड़ी, हीटर और ब्लोअर जलाकर अपने को सर्दी से बचाया. सर्दी बढ़ने से मॉर्निंग वॉकरों की संख्या भी कम रही.

स्कूलों में घटी हाजिरी

सर्द लहर के कारण स्कूलों में हाजिरी कम हो गई है. नगर के कई पब्लिक स्कूल ऐसे हैं जहां 07ः30 या 08 बजे से स्कूल हैं. ओमीक्रॉन के चलते पहले से ही छात्रों की संख्या कम थी. अब स्कूल हाजिरी के लिए नोटिस भेज रहे हैं. वहीं, सामाजिक संगठन स्कूलों का समय बदले जाने की मांग कर रहे हैं.

 

25 दिसंबर से UP में मिलेगी 24 घंटे बिजली, योगी सरकार की तैयारी पूरी

 

हवा की सेहत हुई खराब

हवा की गति करीब तीन किमी प्रति घंटा रह जाने से हवा की सेहत खराब हुई है. धूल-धुआं और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड गैस की मात्रा बढ़ जाने से एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) बढ़ गया है. सुबह नौ बजे नेहरू नगर का एक्यूआई 266 (मानक 50), किदवई नगर का 257 और एनएसआई का 241 रहा.

सर्दी का सितम जारी रहेगा

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय (सीएसए) के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि फिलहाल शीतलहर का प्रकोप बना रहेगा. तापमान में गिरावट का अनुमान पहले से था। उत्तर पश्चिमी हवाओं से सर्दी और बढ़ी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें