दिवंगत संजीत के परिजनों से मिले अखिलेश, बोले-SP की सरकार बनेगी तो होगी CBI जांच

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 11:04 PM IST
  • सपा अध्यक्ष बुधवार दोपहर करीब 3 बजे संजीत के परिवार वालों से मिलने के लिए पहुंचे. जहां तकरीबन 15 मिनट रूकने के बाद वे मीडिया से मुखातिब हुए बिना ही लौट गए. उन्होंने दिवंगत संजीत के माता-पिता को आश्वस्त किया कि जब सपा की सरकार आएगी तो संजीत केस की सीबीआई जांच कराई जाएगी. किसी भी हालत में दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.
दिवंगत संजीत के परिजनों से मिले सपा अध्यक्ष

कानपुर- संजीत यादव हत्याकांड को लेकर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव योगी सरकार को घेरने में जुटे हैं. सपा अध्यक्ष बुधवार दोपहर करीब 3 बजे संजीत के परिवार वालों से मिलने के लिए पहुंचे. जहां तकरीबन 15 मिनट रूकने के बाद वे मीडिया से मुखातिब हुए बिना ही लौट गए.

भीड़ इकट्ठा न हो इसके लिए पुलिस संजीत के घर को जाने वाली तीन गलियों में बैरीकेडिंग लगाकर जाम कर दिया था. बर्रा पांच सब्जी मंडी से अखिलेश यादव का काफिला संजीत के घर के लिए आया. इसके बाद अखिलेश दिवंगत संजीत के परिवार वालों से मिले. अखिलेश से पहले एसपी साउथ दीपक भूकर संजीत के पिता चमन यादव से मिले. इस दौरान उन्होंने कहा कि पुलिस आरोपियों को कड़ी सजा मिलेगी. अभी जांच खत्म नहीं हुई है, टीमें लगातार साक्ष्य जुटाने में लगी हैं.

झाड़ियों में मिला पूर्व प्रधान का शव,परिजनों ने जताई हत्या की आंशका

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पहुंचने के बाद कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी की. उन्होंने दिवंगत संजीत के माता-पिता को आश्वस्त किया कि जब सपा की सरकार आएगी तो संजीत केस की सीबीआई जांच कराई जाएगी. किसी भी हालत में दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. बताते चलें कि कानपुर के बर्रा से 22 जून को लैब टेक्नीशियन संजीत का अपहरण फिरौती के लिए उसके दोस्त ने साथियों के साथ मिलकर किया था. 26 जून को उसकी हत्या कर लाश पांडु नदी में फेंक दी थी.

कानपुर: पुल के नीचे मिला युवक का शव, पुलिस ने पोस्टमॉर्टम को भेजा

कानपुर: शादी के दिन दाढ़ी बनवाने गए दूल्हे की मौत, घर में छाया मातम

कूड़े के ढे़र में मिले 4 नरमुंड, तंत्र-मंत्र की आशंका, पुलिस जांच में जुटी

पुलिस के सख्त पहरे के आगे भारत बंदी का कानपुर में असर रहा 'बेअसर'

तांत्रिक ने फोटो से बनाया युवती का अश्लील वीडियो, ब्लैकमेल कर मांगे एक लाख रूपए

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें