श्रीलंका के राष्ट्रपति से मिला गोल्ड मेडल, अब कानपुर में SP से बनीं ब्लॉक प्रमुख

Smart News Team, Last updated: Mon, 12th Jul 2021, 9:38 AM IST
  • कानपुर के सरसौल ब्लॉक प्रमुख चुनाव जीती सपा की डॉ विजय रत्ना को बीजेपी की जीत से ज्यादा सुर्खियां मिल रही हैं. इन्हें 2008 में श्रीलंका के तत्कालीन राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे से सम्मान मिला हैं. साथ ही इन्होंने जेएनयू दिल्ली से वे 2019 में पीएचडी किया हैं.
श्रीलंका के राष्ट्रपति से मिल चुका है गोल्ड मेडल, अब कानपुर में सपा से बनीं ब्लॉक प्रमुख

कानपुर. उत्तर प्रदेश में शनिवार को ब्लॉक प्रमुख पद के चुनाव संपन्न हुए हैं. जिसमें बीजेपी ने कई सीटों पर जीत हासिल की है. जिसमें बीजेपी का कानपुर में भी अच्छा प्रदर्शन रहा, लेकिन वहां पर बीजेपी की जीत से ज्यादा ब्लॉक प्रमुख बनी समाजवादी पार्टी की डॉ विजय रत्ना की ज्यादा वाहवाही देखने को मिल रही हैं. बताया जा रहा है कि इनको 2008 में श्रीलंका के तत्कालीन राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे से गोल्ड मेडल मिल चुका हैं. इतना ही नहीं इन्होंने जेएनयू से पीएचडी भी की हैं. साथ ही यह सपा पूर्व एमएलसी लाल सिंह तोमर की बहू भी हैं.

स की डॉ विजय रत्ना ने शनिवार को हुए सरसौल ब्लॉक प्रमुख चुनाव में अपने प्रतिद्वंद्वी भाजपा प्रत्याशी गायत्री अवस्थी को 50 वोटों से हराया हैं. वहीं इनके भाजपा के प्रत्याशी के हराने के बाद अब इनकी शैक्षिक योग्यता पर चर्चा होनी शुरू हो गई. साथ ही ग्रामीणों में इनकी शैक्षिक योग्यता को देखकर एक ब्लॉक प्रमुख मिलने की उम्मीद के साथ विकास होने की भी आशा जगी है.

कहर: यूपी में आसमान से गिरी बिजली ने ली 8 महिला समेत 35 लोगों की जान

बात करे डॉ विजय रत्ना के शैक्षिक योग्यता की तो इन्होंने एनसीसी में ए, बी और सी सर्टिफिकेट पाया हैं. साथ ही 2003 में यूपी के तत्कालीन गवर्नर विष्णुकांत शास्त्री ने सर्वश्रेष्ठ कैडेट का सम्मान भी मिल चुका है. वहीं 2008 में श्रीलंका में हुए यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम में उनके प्रदर्शन को देखकर तत्कालीन राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे ने गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया था. इसके अलावा यह जेएनयू दिल्ली से 2019 में पीएचडी भी कर चुकी हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें