कानपुर: अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई, टीम पर हुआ पथराव, BJP नेता समेत 3 घायल

Smart News Team, Last updated: 16/10/2020 09:39 PM IST
  • कानपुर की मेयर प्रमिला पांडेय निराला नगर रेलवे ग्राउंड के पास मवेशिय को बांधे जाने की शिकायत पर शुक्रवार को प्रवर्तन दल के साथ पहुंची थी. जहाँ पर चट्टा संचालको ने महापौर का घेराव करके पत्थरबाजी शुरू कर दी. जिसमे भाजपा नेता सहित अन्य चार लोग भी घायल हो गए. 17 पशुओं को कैटल कैचिंग दस्ते ने पकड़ा.
अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई करने पहुंची मेयर प्रमिला पांडेय

कानपुर. कानपुर की महापौर प्रमिला पांडेय ने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि शुक्रवार को वह जूही की पार्षद अल्पना जायसवाल के क्षेत्र में निरीक्षण करने गई थीं. वहां पर एक पीड़ित ने इलाके में चट्टा संचालकों की शिकायत करते हुए बताया कि संचालक दिनभर अपने मवेशियों को रेलवेग्राउंड के जंगल में बांध कर रखते है, और जब रात हो जाती है तब वह मवेशियों को अपने-अपने घरों को ले आते हैं. मवेशियों की गंदगी से अक्सर नालियां चोक होती रहती हैं.

पीड़िता की शिकायत मिलने पर महापौर प्रवर्तन दल और पार्षद गिरीशचंद्रा, प्रमोद जायसवाल, पार्षद पति संदीप जायसवाल व भाजपा पदाधिकारी-कार्यकर्ताओं के साथ रेलवेग्राउंड का निरिक्षण करने पहुंची. मेयर के निरिक्षण की भनक चट्टा संचालकों को भी लग गई. सचांलकों ने मेयर और उनके साथ गए लोगो को चारो तरफ से घेर कर उनपर पथराव कर दिया. पथराव के दौरान तीन-चार लोग महापौर की सुरक्षा के लिए आगे बढ़े. मेयर और अपने साथियों को लोगों के बीच घिरा देख भाजपा के निराला नगर मंडल के उपाध्यक्ष सुखवंत सिंह आगे आ गए, उन्होंने महापौर को पीछे किया और संचालकों को से भिड़ गए. इस दौरान पथराव कर रहे लोगों ने उनसे मारपीट करने लगे. उसी दौरान भाजपा नेता को पत्थर लगने से घायल हो गए. 

कानपुर उर्सला अस्पताल में लापरवाही! बच्चे का लेफ्ट की जगह राइट कान का ऑपरेशन

वहीं इस पथराव में तीन अन्य लोग भी घायल हुए. पथराव से घायल हुए लोगो ने बताया कि करीब 45 मिनट बाद गोविंदनगर थाने की पुलिस फोर्स पहुंची. जिसे देख हमलावर चट्टा संचालक कॉलोनी से होते हुए नौ दो ग्यारह हो गए. महापौर ने बताया कि रेलवे लाइन के पास के जंगल से मिले मवेशियों को नगर निगम के कैटल कैचिंग दस्ते आने साथ ले गई. वहां मौजूद 17 मवेशियों को कैटल कैचिंग दस्ते पकड़ा. मेयर ने बताय की मवेशी किसी के चट्टे या घर से नहीं बल्कि जंगल से पकड़े गए हैं, इसलिए इन मवेशियों को किसी को भी नहीं लौटाया जाएगा अब ये नगर निगम के हो गए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें