टीम इंडिया टेस्ट मैच के लिए पहुंची कानपुर, तीन दिन रहेगी क्वारंटाइन

Anurag Gupta1, Last updated: Sat, 20th Nov 2021, 10:19 AM IST
  • कानपुर के ग्रीन पार्क में 25 नवंबर को भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहला टेस्ट मैच होगा. कप्तान अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा समेत अन्य 10 खिलाड़ी बायो बबल सिक्योरिटी में होटल लैंडमार्क लाया गया. तीन दिन क्वारंटान के बाद करेंगे नेट प्रेक्टिस.
ग्रीन पार्क कानपुर (फाइल फोटो)

कानपुर. कानपुर के ग्रीन पार्क में भारत और न्यूजीलैंड के बीच 25 नवंबर को पहला टेस्ट मैच खेला जाएगा. जिसके चलते भारतीय टीम के खिलाड़ियों का कानपुर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है. शुक्रवार शाम को भारतीय टीम के कप्तान अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा समेत अन्य 10 खिलाड़ी अपने सहयोगी स्टाफ के साथ चकेरी एयरपोर्ट पहुंचे. एयरपोर्ट से खिलाड़ियों को पूरे सुरक्षा के साथ होटल लैंडमार्क पहुंचाया गया. बाकी टीम अभी टी20 में जुटी है वो टी20 खत्म करके कानपुर पहुंचेंगे.

अजिंक्य रहाणे और टीम चार्टर्ड प्लेन से चकेरी एयरपोर्ट पहुंचे. यहां से सभी खिलाड़ियों को बस से बायो बबल सिक्योरिटी में होटल लैंडमार्क ले जाया गया. लैंडमार्क में सभी खिलाड़ी आज से तीन दिनों तक क्वारंटाइन रहेंगे. वहीं रविंद्र जडेजा की फ्लाइट हैदराबाद से लखनऊ में लैंड की और उसके बाद वह सड़क मार्ग से कानपुर के लैंडमार्क होटल पहुंचे. पूरी टीम तीन दिन के क्वॉरटाइन के बाद नेट प्रेक्टिस शुरू करेगी.

कानपुर के PG सुपर स्पेशियलिटी इंस्टीट्यूट को मिली मंजूरी, GSVM के अंतर्गत होगा संचालित

इंडिया न्यूजीलैंड की थीम पर सजाया गया गलियारा:

होटल लैंडमार्क में बायो बबल को लेकर विशेष सुविधाएं की गई हैं. बायो बबल के लिए एक विशेष गलियारा बनाया गया है. जिसे इंडिया और न्यूजीलैंड की टीम की थीम पर सजाया गया है. वही टीम का स्वागत भारतीय संस्कृति के तहत उनकी आरती उतारकर होटल स्टाफ की तरफ से किया गया. लेकिन हर बार की तरह इस बार खिलाड़ियों का रुकना नहीं किया गया. कोविड-19 का पूरा पालन करते हुए होटल स्टाफ मास्क लगाए हुए सभी खिलाड़ियों के स्वागत में खड़े रहे और तालियां बजाकर खिलाड़ियों का स्वागत किया. इसके पहले होटल खाने से लेकर रहने की पूरी तैयारी पहले बता चुका था.

क्या होती है बायो बबल सिक्योरिटी:

बायो बबल एक काल्पनिक दुनिया होती है जिसके अंदर जाने के बाद खिलाड़ियों के किसी से मिलने या बात करने की अनुमति नहीं होती है. इस बायो को होटल या स्टेडियम में उस जगह पर तैयार किया जाता है जहां किसी को जाने अनुमति नहीं होती है. खिलाड़ी इन चुनी हुई जगह के अलावा कहीं नहीं जा सकते हैं. खिलाड़ियों को बायो बबल तोड़ने की अनुमति नहीं होती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें