मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना में दो सौ बच्चे चयनित

Smart News Team, Last updated: Mon, 4th Jan 2021, 2:31 PM IST
  • बालश्रम रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 12 जून 2020 को मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना की शुरुआत की थी। इसके पहले चरण में यूपी के दो हजार बच्चों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है। कानपुर से इस योजना के लिए 200 बच्चों का चयन किया गया है। आठवीं या इससे ऊपर की पढ़ाई करने वाले श्रमिकों के बच्चों को 6 हजार रुपये की अतिरिक्त सहायता का भी प्रावधान है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

कानपुर : शहर में मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना के तहत दो सौ बच्चों का चयन किया गया है। चयनित बच्चों को प्रतिमाह 1200 रुपये की राशि दी जाएगी। इसमें बालकों को 1000 रुपये और बालिकाओं के लिए सरकार ने 1200 रुपये की राशि तय की है।

CMO जितेंद्र पाल की कोरोना के कारण मौत, सांस में तकलीफ के चलते हुए थे PGI भर्ती

बता दें, बालश्रम रोकने के लिए मुख्यमंत्री ने 12 जून 2020 को योजना की शुरुआत की थी। प्रदेश के 57 जिलों में शुरू हुई इस योजना के तहत पहले चरण में 2000 बच्चों को लाभान्वित करने का लक्ष्य तय किया गया था। अगर किसी श्रमिक का बच्चा आठवीं, नौवीं या 10वीं में है तो श्रम विभाग की ओर से बाल श्रमिक विद्या योजना के तहत छह हजार रुपये की अतिरिक्त सहायता की जाएगीयोजना में आवेदन करने के लिए आवेदक की उम्र का 18 वर्ष होना जरूरी है। साथ ही आवेदनकर्ता उत्तरप्रदेश का स्थायी निवासी हो। उसके पास आधार कार्ड व पहचान पत्र होना चाहिए। निवास प्रमाण पत्र भी अनिवार्य है। अपर श्रमायुक्त एसपी शुक्ला ने बताया कि सभी बच्चों का सत्यापन किया जा रहा है। रिपोर्ट मिलते ही सभी के खातों में धनराशि भेजी जाएगी।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें