अस्पताल की लापरवाही! हाथ का इलाज करवाने गए युवक की गलत इंजेक्शन लगने से मौत

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sun, 12th Dec 2021, 2:23 PM IST
  • कानपुर के कल्याणपुर में संचालित एक निजी अस्पताल में शुक्रवार को अस्पतालकर्मी द्वारा इंजेक्शन लगाने के 15 मिनट के भीतर 33 वर्षीय एक शख्स की मौत हो गई. हाथ में फ्रैक्चर के चलते वह नियमित इलाज के लिए अस्पताल गया था. पिता का आरोप है कि अस्पताल की लापरवाही व गलत इंजेक्शन देने की वजह से बेटे की मौत हुई.
प्रतीकात्मक फोटो

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर के कल्याणपुर स्थित एक निजी अस्पताल में शुक्रवार को अस्पतालकर्मी द्वारा गलत इंजेक्शन लगाने से 33 वर्षीय एक शख्स की मौत 15 मिनट के भीतर हो गई. हाथ में फ्रैक्चर होने के चलते वह नियमित जांच के लिए अस्पताल गया था. शख्स का हाथ पिछले करीब 3 महिने पहले टूटा था. मृतक शख्स के पिता का आरोप है कि अस्पताल की लापरवाही व गलत इंजेक्शन देने की वजह से उसके बेटे की मौत हुई है.

कल्याणपुर के निजी अस्पताल में जिस शख्स की इंजेक्शन लेने के बाद हालत बिगड़ी थी वह उन्नाव के सदर कोतवाली इलाके के सरोसी गांव का रहने वाला सुनील पाल पुत्र सुखलाल बताया गया है. 3 महिने पहले रुस्तमपुर गांव के पास बाइक से गिर जाने से उसके हाथ में फ्रैैक्चर हो गया था. उसी का नियमित इलाज कराने वह निजी अस्पताल गया था.

इंसानियत की मिसाल, कानपुर आउटर SP ने उठाया नेत्रहीन पिता की बेटी की पढ़ाई का जिम्मा

परिजनों के मुताबिक, शुक्रवार 10 दिसंबर को सुनील नियमित जांच के लिए अस्पताल गया था. और वहीं एक अस्पताल कर्मी ने उसे इंजेक्शन दिया. इंजेक्शन लेने के कुछ ही देर बाद उसकी हालत बिगड़ने लगी और बेहोश हो गया. कुछ ही देर बाद पता चला की उसकी मौत हो गई है.

मृतक सुनिल के पिता सुखलाल ने शनिवार के बताया कि अस्पतालकर्मी के इंजेक्शन देने के बाद सुनिल की हालत खराब होने लगी थी. कुछ देर बाद ही उसकी हालत बहुत ज्यादा खराब हो गई. जब उन्होंने अस्पतालकर्मी से कुछ करने को कहा, तो उसका जवाब आया कि अब इन्हें जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के कार्डियोलॉजी अस्पताल ले जाना पड़ेगा. जहां डॉक्टरों ने उसे घोषित कर दिया. पिता ने आरोप लगाया कि उनके बेटे की मौत इंजेक्शन देने के 15 मिनट के भीतर हो गई और यह सब अस्पताल के कर्मचारियों की लापरवाही के कारण हुआ है.

IIT से गीता नगर तक कानपुर मेट्रो में सफर करेंगे PM मोदी, पढ़ें पूरा कार्यक्रम

पुलिस को घटना की सूचना देने के बाद मृतक के परिजन शव को लेकर पैतृक गांव उन्नाव चले गए. वहां जाकर शव का पोस्टमॉर्टम कराने के लिए पिता ने उन्नाव के कोतवाली पुलिस से संपर्क किया. शनिवार को मृतक सुनिल का उन्नाव के जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम किया गया. उन्नाव कोतवाली पुलिस ने बताया है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद शव मृतक के परिजनों को सौंप दी गई. सुनील की मौत से पत्नी सरिता और उसकी मां मिथलेश का रो-रो कर बुरा हाल है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट न हो पाया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें