CM योगी से SIT की सिफारिश- विकास दुबे के 150 करोड़ के साम्राज्य की ED से जांच हो

Smart News Team, Last updated: 02/12/2020 11:15 PM IST
  • कानपुर बिकरू कांड के लिए गठित एसआईटी ने जांच रिपोर्ट में यूपी सरकार से सिफारिश की है कि गैंगस्टर विकास दुबे के 150 करोड़ के साम्राज्य की जांच ईडी से कराई जाए.
बिकरू कांड में एसआईटी की जांच रिपोर्ट में सरकार से विकास दुबे की प्रॉपर्टी की जांच ईडी से कराने की सिफारिश की गई है.

लखनऊ/ कानपुर. उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की बनाई एसआईटी ने कानपुर के बिकरू कांड की जांच रिपोर्ट में सरकार के सिफारिश की है कि एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे के 150 करोड़ के काला साम्राज्य की प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी से जांच कराई जाए. एसआईटी ने जांच रिपोर्ट में दावा किया है विकास दुबे और उसके गुर्गों ने जो आर्थिक साम्राज्य खड़ा किया है वो 150 करोड़ का है और देश-विदेश में फैला है. यूपी पुलिस ने एक मुठभेड़ में 10 जुलाई को विकास दुबे को मार गिराया था जिसे उज्जैन से एक वैन में सरेंडर करने के बाद यूपी लाया जा रहा था.

योगी सरकार ने बिकरू एनकाउंटर की तमाम पहलुओं की समग्र जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था. बिकरू कांड में 3 जुलाई को डीएसपी देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिस जवान शहीद हो गए थे. एसआईटी ने इससे पहले 90 अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की थी जिसमें 41 पुलिस वाले शामिल हैं. ग्रामीण विकास विभाग से लेकर खाद्य और राजस्व विभाग तक के इन कर्मचारियों पर विकास दुबे गैंग की मदद करने का आरोप है. 

कानपुर बिकरू कांड: एसआईटी ने जांच रिपोर्ट यूपी सरकार को सौंपी

राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एसआईटी ने विकास दुबे की संपत्ति की ईडी से जांच के साथ-साथ दुबे के गैंग की मदद करने वाले सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों पर केस दर्ज करने की भी सिफारिश की है. अधिकारी के मुताबिक ये रिपोर्ट अक्टूबर में सरकार को सौंप दी गई थी जिसे सरकार ने हाल में स्वीकार कर लिया है. एसआईटी ने अपनी जांच में पाया है कि अधिकारियों ने विकास दुबे और उसके गुर्गों के खिलाफ एक तो शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की, ऊपर से फर्जी कागजात के आधार पर आर्म्स लाइसेंस से लेकर पासपोर्ट तक जारी होने दिया. 

कोरोना से खड़ी हुई एक और मुसीबत, लोग भूले नंबर और पासवर्ड, दिमाग पर गहरा असर

एडिशनल चीफ सेक्रेटरी संजय भूसरेड्डी की अगुवाई वाली एसआईटी ने अपनी 3100 पेज की रिपोर्ट में उन अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई की सिफारिश की है जिसने विकास दुबे गैंग को हथियार का लाइसेंस लेने और हथियारों का जखीरा जुटाने में मदद की. योगी सरकार ने एसआईटी रिपोर्ट के आधार पर पहले ही डीआईजी रैंक के अधिकारी अनंत देनव को सस्पेंड कर रखा है जिन पर कानपुर में एसएसपी रहते विकास दुबे को संरक्षण देने का आरोप लगा. अनंत देव बिकरू कांड से कुछ समय पहले तक कानपुर में तैनात थे और वहां से ट्रांसफर होकर एसटीएफ के डीआईजी बनाए गए थे. 

Viral Video: गंगा बैराज पुल से खतरनाक स्टंट करते हुए मछलियां पकड़ रहे युवक 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें