कानपुर: कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के एक दिन बाद ही पूर्व MP श्याम बिहारी का निधन

Smart News Team, Last updated: Tue, 20th Apr 2021, 8:12 PM IST
  • लोकसभा सांसद रहे श्याम बिहारी मिश्रा का मंगलवार को कोरोना से निधन हो गया. पूर्व सांसद श्याम बिहारी मिश्र को हृदय संबंधी समस्या होने पर हृदय रोग संस्थान में भर्ती कराया गया था.
कानपुर: कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के एक दिन बाद ही पूर्व MP श्याम बिहारी का निधन (फाइल फ़ोटो)

कानपुर: बीजेपी के टिकट से चार बार लोकसभा सांसद रहे श्याम बिहारी मिश्रा का मंगलवार को कोरोना से निधन हो गया. पूर्व सांसद श्याम बिहारी मिश्र को हृदय संबंधी समस्या होने पर हृदय रोग संस्थान में भर्ती कराया गया था. दो दिन पहले ही उन्हें हार्ट अटैक आया था. रविवार को जब वह कोरोना संक्रमित पाए गए थे तब कार्डियोलॉजी अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती कराने को कहा था. परिजन रात भर भटकते रहे, लेकिन बात नहीं बनी. 

सोमवार सुबह जब नगर निगम कंट्रोल रूम से भर्ती कराने के लिए पत्र मिला तब जाकर दोपहर करीब एक बजे उन्हेंं भर्ती कराया जा सका. हालांकि इसमें डीएम ने मदद की तब यह सबकुछ संभव हो सका. अगर उन्हें समय से हॉस्पिटल में भर्ती लिया गया होता तो शायद उनकी जान बचाई जा सकती थी. कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमण की वजह से उन्हें इलाज के लिए दिल्ली ले जाया गया था. 

दिल्ली से आए प्रवासियों का अड्डा बना लखनऊ का बस स्टेशन, घर जाने के इंतजार में मजदूर

वहां से लौटने के बाद गुरुवार को उनकी कोविड जांच एक निजी पैथोलॉजी में कराई गई थी. इसके बाद रविवार को उनका चेकअप कराया गया तो पता चला कि दो दिन पहले उन्हें माइनर अटैक पड़ा था. कार्डियोलॉजी में हुई जांच में भी उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. इसके बाद उन्हें सोमवार को मधुराज नर्सिंग होम में भर्ती किया गया था. हालांकि सोमवार शाम को निजी पैथोलॉजी में कराई गई उनकी कोरोना जांच निगेटिव आ गई थी. मंगलवार शाम को उनका निधन हो गया.

कोरोना के कारण CISCE बोर्ड के 10वीं की परीक्षा कैंसिल, 12वीं की परीक्षा बाद में

व्यापारी नेता के रूप में पूरे देश में अपनी छाप छोड़ने वाले श्याम बिहारी मिश्रा 1991 में पहली बार भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर बिल्हौर लोकसभा क्षेत्र से सांसद बने थे. इसके बाद 1996, 1998, 1999 में लगातार वह सांसद रहे. वर्तमान में उत्तर प्रदेश में संचालित तमाम व्यापार मंडल उनके व्यापार मंडल से ही टूटकर अलग हुए हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें