UP में बनेंगी वर्ल्ड की लेटेस्ट ब्लास्ट प्रूफ गाड़ी, सेना का भी ऑर्डर, जानें कीमत

Smart News Team, Last updated: Mon, 5th Apr 2021, 6:08 PM IST
  • कानपुर के रक्षा उद्यमी ने माइंस प्रोटेक्टिव व्हेकिल बनाए हैं. ये गाड़ियां बारूदी सुरंगों से निपटने के लिए मददगार साबित होंगी. भारतीय सेना ने 12 बुलेटप्रूफ गाड़ियों के ऑर्डर दिए हैं. ये गाड़ी छत्तीसगढ़ जैसे नक्सली इलाकों में काफी कारगर होगी.
सेना ने 12 बुलेटप्रूफ गाड़ियों के ऑर्डर रक्षा उद्यमी को दिए हैं. प्रतीकात्मक तस्वीर

कानपुर. छत्तीसगढ़ और दूसरी नक्सली इलाकों में बारूदी सुरंगे सुरक्षा बलों के लिए सबसे बड़ी चुनौती रहती है. इससे निपटने के लिए कानुपर के रक्षा उद्यमी ने माइंस प्रोटेक्टिव व्हेकिल बनाए हैं. जिनकी सप्लाई छत्तीसगढ़ पुलिस और अर्ध सैनिक बलों को की जाएगी. मिली जानकारी के मुताबिक, दो वाहन पूरी तरह से तैयार हैं और सेना ने 12 बुलेटप्रूफ गाड़ियों के ऑर्डर दिए हैं.

इस बारे में माइंस प्रोटेक्टिव वेहिकिल रक्षा उद्यमी मयंक श्रीवास्तव ने कहा कि बारूदी सुरंगे तीर की रफ्तार से बिल्कुल सीधी फटती है. इसी वजह से वाहन आसमान की तरफ हवा में उछलता है. उन्होंने कहा कि जब माइंस प्रोटेक्टिव वेहिकिल बारूदी सुरंग के उपर से गुजरता है तो विस्फोट को दो हिस्सों में बांटकर 45 डिग्री में मोड़ देता है. इससे धमाके की ताकत एक जगह न होकर बिखर जाती है.

छत्तीसगढ़ हमले में शहीद जवानों के परिवार को योगी सरकार देगी 50-50 लाख रुपए

मयंक श्रीवास्तव ने कहा कि ब्लास्ट का प्रेशर 20 हजार प्रति वर्ग सेमी. से घटकर 250 प्रति वर्ग सेंमी हो जाता है. इससे वाहन को टुकड़ों के बदलने की ताकत सिर्फ दो फुट उछालने की रह जाती है. वहीं एनसीफडी के युवा निदेशक मृदुल और मृदित ने कहा कि इन वाहनों को खास जर्मन मशीनों से तैयार किया गया है. इन मशीनों की खासियत है कि पानी की धार से डेढ़ इंच मोटी लोहे या कांच की चादर को काटती है. उन्होंने बताया कि ये गाड़ी को 6 हिस्सों में सुरक्षा देती है, सामने, पीछे, फर्श, दोनों किनारे की दीवारें, दरवाजे और छत.

यूपी में राम वन गमन मार्ग बनाने की तैयारी में सरकार, जानें क्या है खासियत

मिली जानकारी के मुताबिक, बुलेटप्रूफ कार के शीशे को मबजबूत बनाने की टेक्नोलाॅजी काफी जटिल है. इसे बैलिस्टिक ग्लास भी कहा जाता है. इसके लिए लगभ 40 से 55 एमएम मोटे ग्लास का इस्तेमाल किया जाता है जो परतों में काफी मोटा होता है. गाड़ी के फर्श को मजबू करने के लिए ब्लास्ट प्रूफ फ्लोर प्रोटेक्शन स्टील से लैस किया गया है. इस गाड़ी का टायर पंचर हो जाए तभी भी मीलों चल सकेगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें