कानपुर संत समाज की धमकी- हिंदू बहन-बेटियां प्रताड़ित हुईं तो चुप नहीं बैठेंगे

Smart News Team, Last updated: Mon, 16th Aug 2021, 4:34 PM IST
  • कानपुर में बर्रा छेड़छाड़ मामले में विश्व हिंदू परिषद कानपुर प्रांत के मठ-मंदिर आयाम संत समाज ने पीड़ित नाबालिग लड़की से मुलाकात की. संत समाज ने कहा है की अगर कोई भी व्यक्ति हिंदू बहन बेटियों का धर्मांतरण या छेड़छाड़ करता है तो संत समाज चुप नहीं बैठेगा.
कानपुर बर्रा छेड़छाड़ मामले में हिंदूसंत समाज ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की है.

कानपूर. बर्रा छेड़छाड़ मामला तूलपकड़ता जा रहा है. छेड़छाड़ मामले में कानपुर प्रान्त के विश्व हिंदू परिषद व हिंदू संत समाज ने पीड़ित नाबालिग लड़की से मुलाकात की. हिंदू संतों के प्रतिनिधि मंडल ने पीड़ित परिवार को राशन व फल भी वितरित किया है. हिंदू संतों ने कहा है की छेड़छाड़ मामले में हम पीड़ित परिवार के साथ हैं. अगर हिंदू बहन-बेटियों को कोई धर्म परिवर्तन के लिए उकसाता है, तो संत समाज चुप नहीं बैठने वाला है. हिंदू बेटियों के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जाएगी.  

जुही स्थित स्वामी शंकराचार्य मठ के आचार्य मधु महाराज ने कहा है की देश में हिंदू बहन-बेटियों का उत्पीड़न बढ़ता जा रहा है. जिसके लिए संत समाज उन बेटियों की आवाज बनेगा. आचार्य मधु महाराज ने कहा है की हम 135 करोड़ देशवासी प्रेम और शांति सौहार्द से रहने की कामना करते हैं. लेकिन अगर कोई भी व्यक्ति पैसों का लालच देकर धर्मांतरण करता है, तो संत समाज बिलकुल चुप नहीं बैठेगा. देशभर में लव जिहाद के मामले भी लगातार बढ़ते जा रहे हैं. जो की चिंता का विषय है. समाज में बहन-बेटियों के साथ अगर कोई भी दुर्व्यवहार, छेड़छाड़ या तंग करता है, तो हम उन बेटियों के साथ खड़े रहेंगे. हिन्दू धर्म के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.

कानपुर: महिला दरोगा के खाते से निकाले 10 लाख, फिर रेप और गला दबाया, ऐसे बची जान

आचार्य मधु महाराज ने कहा है की बर्रा छेड़छाड़ मामले में हमने आज पीड़ित परिवार से मुलाकात की है. उन्हें हर मदद का आश्वासन दिया है. साथ ही भरोसा दिलाया है की पूरा हिंदू संत समाज उनके साथ खड़ा है. इस मामले में हिंदू संत जिला प्रशासन से मिलकर मामले में कठोर कार्यवाही की मांग करेगा. आपको बता दे की पिछले दिनों ही बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने ई-रिक्शा संचालक अफसार के साथ सरे बाजार मारपीट की थी, जिस कारण पुलिस ने छह अरूपियों को गिफ्तार किया था.  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें