फरवरी से मई के बीच योगी सरकार करा सकती है UP पंचायत चुनाव, तैयारियां तेज

Smart News Team, Last updated: 02/12/2020 09:38 PM IST
  • यूपी पंचायती राज के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने बुधवार को कानपुर में कहा कि पंचायती चुनाव फरवरी, अप्रैल और मई में हो सकते हैं. इसके लिए प्रशासनिक तैयारियां तेजी से चल रही हैं.
पंचायती राज के अपर मुख्य सचिव ने बताया कि फरवरी, अप्रैल और मई में चुनाव हो सकते हैं.

कानपुर. योगी सरकार उत्तर प्रदेश ग्राम पंचायत के चुनाव फरवरी से मई के बीच में कभी भी करा सकती है. अभी आधिकारिक रूप से यूपी पंचायत चुनाव की तारीख का ऐलान नहीं हुआ है लेकिन प्रशासनिक तैयारियां जोरों पर चल रही हैं. कानपुर में बुधवार को पंचायती राज के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने कहा कि शासनस्तर पर चुनाव को लेकर विचार चल रहा है. आपको बता दें कि दिसंबर 2020 में यूपी की सभी ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों का कार्यकाल खत्म हो जाएगा.

बुधवार को कानपुर में पंचायती राज के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह अन्नप्राशन लघु उद्योग के लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल हुए. इस मौके पर अपर मुख्य सचिव ने कहा कि पंचायती चुनाव फरवरी, अप्रैल या मई में हो सकते हैं. इस संबंध में जल्द ही निर्णय लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि शासन स्तर पर चुनाव को लेकर विचार चल रहा है. अभी कुछ तय नहीं हुआ है.

अखिलेश यादव ने CM योगी पर कसा तंज, बोले- अभिनय और भ्रमण छोड़िए प्रदेश संभालिए

पंचायती राज के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने कहा कि पंचायत चुनाव की जिले स्तर पर तैयारियां तेजी से चल रही हैं. अधिकारी और कर्मचारी इसमें जुटे हैं. अपर मुख्य सचिव ने कहा कि प्रधानों का कार्यकाल समाप्त होने पर पंचायती राज अधिनियम के तहत एडीओ स्तर के अधिकारी प्रशासक नियुक्त किए जाएंगे. इस कार्यक्रम के बाद पंचायती राज अपर मुख्य सचिव सिकंदरपुर ब्लाॅक गए.

विदेशों के तर्ज पर अब उतर प्रदेश में भी प्लास्टिक वेस्ट मटेरियल से बनेगी सड़क

सिकंदरपुर ब्लाॅक में अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने विकास योजना की समीक्षा की और स्वयं सहायता समूहों की वास्तविकता देखी. इसके अलावा उन्होंने बाघापुर की ग्राम पंचायत घाटमपुर कला में पंचायत भवन का उदघाटन किया. घाटमपुर में सामुदायिक शौचालय का निरीक्षण किया. जिसके बाद मिशन शक्ति के तहत महिला स्वच्छाग्राही और सफाई कर्मचारियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें