कानपुर: दो साल पहले चोरी हुई गाड़ी को दौड़ा रहे थे इंस्पेक्टर साहब, फोन ने पकड़वाया

Smart News Team, Last updated: Sun, 3rd Jan 2021, 6:08 PM IST
  • कानपुर में दो साल पहले चोरी हुई गाड़ी को पुलिस इंस्पेंक्टर चला रहे थे. सर्विस सेंटर कंपनी के एक कॉल से मामले का खुलासा हुआ. पुलिस ने कहा कि लावारिस कार को सीज किया गया था. क्षतिग्रस्त होने पर सर्विस के लिए भेजी गई थी.
कानपुर में दो साल पहले चोरी हुई गाड़ी को पुलिस इंस्पेंक्टर चला रहा था, सर्विस सेंटर की काॅल से खुलासा हुआ.

कानपुर. कानपुर में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें दो साल पहले चोरी हुई कार को पुलिस इंस्पेक्टर चला रहे थे. सर्विसिंग के लिए जब कार सर्विस सेंटर के लिए गई तो कस्टमर केयर के कार के मालिक को फोन किया. जिससे पूरे मामले का खुलासा हुआ. इससे पुलिस पर सवाल खड़ किए जा रहे हैं. वहीं पुलिस ने लावारिस कार को सीज करने की बात कही.

इन आरोपों पर कार चलाने वाले बिठूर एसओ ने कहा कि ये कार बिठूर थाना क्षेत्र में लावारिस मिली थी. जिसको सीज किया गया था. कार में नंबर न होने के चलते कार मालिक का पता कराया जा रहा था. उन्होंने कहा कि थाने में एक कार की टक्कर के लगत यह कार क्षतिग्रस्त हो गई थी. जिसकी ठीक कराने के लिए सर्विस सेंटर भिजवाया गया था.

तीन साल में बनेगा अयोध्या राम मंदिर, सभी धर्म के लोग देंगे चंदा: चंपत राय

ये मामला दो साल पहले का है. बर्रा निवासी ओमेन्द्र सोनी विज्ञापन एजेंसी चलाते हैं. 31 दिसंबर 2018 को धुलने के लिए गई उनकी चोरी हो गई थी. जिसके बाद उन्होंने बर्रा थाने में कार चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी लेकिन पुलिस कार को बरामद नहीं कर पाई थी. लगभग दो साल के बाद उनको हर्ष नगर के एक सर्विस सेंटर से सर्विस के लिए काॅल आई. 

बेटियों के लिए मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड आया आगे, कहा-मेहर की रकम महिलाओं का हक

ओमेन्द्र को पता चला कि उनकी कार सर्विस सेंटर पर आई थी. जिसके बाद ओमेन्द्र खुद सर्विस सेंटर गया. वहां उसे पता चला कि 15 दिसंबर को बिठूर पुलिस इंस्पेंक्टर ने कार को सर्विस के लिए सेंटर भेजा था. जिसके बाद कार को 22 दिसंबर को पुलिस को दे दिया गया था. जिसके बाद ओमेन्द्र बिठूर पुलिस थाने गए. वहां एसओ ने बताया कि उनको लावारिस कार मिली थी. क्षतिग्रस्त होने पर सर्विस सेंटर भेजा था. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें