कानपुर : विकास के साथी जय को बचाने की कोशिश करने वाले तीन दरोगा सस्पेंड

Smart News Team, Last updated: 21/08/2020 08:04 AM IST
जय बाजपेई की विवादित संपत्ति पर मुफ्त में तीन दरोगा रह रहे थे. लोगों की शिकायत पर आइजी मोहित अग्रवाल ने कार्रवाई की . तीनों दोरोगा जय को गोपनीय सूचनाएंं देते थे. जय की संपत्तियों की जांच जारी है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

कानपुर. बिकारू कांड के मुख्य आरोपी विकास के सहयोगी जय बाजपेई से जुड़े तीन दरोगाओं के खिलाफ कार्रवाई की गई है. तीन दरोगा निलंबित हो गए हैं.आइजी मोहित अग्रवाल द्वारा विभागीय कार्रवाई के भी निर्देश दिए गए हैं. जानकारी के मुताबिक तीनों जय की विवादित संपत्ति पर मुफ्त में रह रहे थे .

गुरुवार को आइजीरेंज मोहित अग्रवाल ने बताया कि उनके पास लोगों ने शिकायत की थी कि ब्रह्मनगर में विकास के सहयोगी जय बाजपेई का एक मकान है.  जोकि कानपुर विकास प्राधिकरण के अनुसार विवादित है लेकिन फिर भी वहां कुछ पुलिसवाले रह रहे हैं. इसीलिए उस मकान पर प्रशासकीय कार्रवाई करने में भी दिक्कतें आ रही हैं. लोगों की इस शिकायत को संज्ञान में लेते हुए उन्होंने सीओ नजीराबाद गीतांजलि सिंह को मामले की जांच के आदेश दिए. 

कानपुर बीआईसी 2 महीने में बंद, लाल इमली पर ताला, कर्मचारियों को VRS देगी कंपनी

आईजी मोहित से निर्देश मिलने के बाद सीओ नजीराबाद ने ब्रह्मनगर स्थित जय के विवादित मकान में छापेमारी की. उन्हें छापेमारी के दौरान पता चला कि वहां पर कर्नलगंज थाने में तैनात एसआई राजकुमार, अनवरगंज थाने में तैनात एसआई उसमान अली और रायपुरवा थाने में तैनात खालिद रह रहे थे. तीनों पुलिसकर्मियों से  पूछताछ और जांच करने के बाद में पता चला कि पुलिस कर्मी वहां मुफ्त में रह रहे थे. 

कोरोना काल में प्राइवेट स्कूलों पर पैरेंट्स की बड़ी जीत, हडर्ड ने घटाई 50 % फीस

सीओ ने छापेमारी से जुड़ी रिपोर्ट आईजी को सौंप दी है.जिसके तहत उन्होंने तीनों पुलिसकर्मियों को निलम्बित करने और साथ ही सख्त विभागीय कार्रवाई के आदेश भी दिए हैं. गौरतलब है कि वकील संजय भदौरिया ने भी प्रवर्तन निदेशालय के पास जय की संपत्ति और उसके सहयोग कर रहे सफेदपोशो की सूची पेश करी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें