Video: उन्नाव में जय हो गौ माता का नारा लगाकर गौसेवक ने लगाई आग, पुलिस ने बचाया, कानपुर रेफर

Sumit Rajak, Last updated: Wed, 2nd Feb 2022, 2:06 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के उन्नाव में गोशालाओं में मवेशियों की उपेक्षा और उन्हें चारा-पानी न मिलने से आहत गोसेवक अखिलेश ने मंगलवार को कलक्ट्रेट के बाहर पेट्रोल डालकर खुद को लगा ली. गौ माता की जय, गोवंश की रक्षा करो जैसे नारे लगाते गोसेवक को लपटों में घिरा देखकर पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया.
उन्नाव में गौसेवक ने लगाई आग

कानपुर. उत्तर प्रदेश के उन्नाव में गोशालाओं में मवेशियों की उपेक्षा और उन्हें चारा-पानी न मिलने से आहत गोसेवक अखिलेश ने मंगलवार को कलक्ट्रेट के बाहर पेट्रोल डालकर खुद को लगा ली. गौ माता की जय, गोवंश की रक्षा करो जैसे नारे लगाते गोसेवक को लपटों में घिरा देखकर पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया. अखिलेश ने उस जगह आग लगाई जहां पर बैरिकेडिंग थी और नामांकन प्रक्रिया चल रही थी. आनन-फानन मौजूद पुलिसकर्मियों ने आग बुझाकर अखिलेश को जिला अस्पताल भेजा. बताया जा रहा है कि अखिलेश 40 फीसदी तक जल गए हैं, लेकिन उन्होंने अस्पताल पहुंचने तक प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी बंद नहीं की.

बता दें कि शहर के मोहल्ला नरेंद्र नगर निवासी अखिलेश अवस्थी इंदिरा नगर में हनुमंत जीवधाम नाम से गोआश्रय चला रहे हैं. जहां वह लावारिस और बीमार गायों की सेवा करते हैं. वह दिन-रात एक करके गाय की सेवा में लगे रहते हैं. बताया जा रहा कि कुछ दिन पहले जिले की गौशालाओं में गायों की देखभाल में लगातार लापरवाही से गौवंशों के मरने के मामले सामने आ रहे हैं. अखिलेश ने इसका विरोध जताया था उनके सुरक्षा तथा खाने-पीने के प्रबंध के लिए प्रशासन और प्रतिनिधियों से मांग की थी. गायों के मरने को लेकर उनकी एक प्रतिनिधि से कुछ दिन पूर्व फोन पर कहासुनी भी हुई थी. वह लगातार अपने करीबियों से गाय की रक्षा और उन्हें चारा पानी व्यवस्थित कराने के लिए संपर्क साधते रहते हैं और गौरक्षा के लिए लोगों को प्रेरित करते हैं.

UP Police Bharti 2022: यूपी पुलिस में 10वीं पास के लिए वर्कशॉप स्टाफ के पदों पर भर्ती, जल्द करें आवेदन

आवारा गोवंशों को भी वे अपने आश्रय स्थल में रखते हैं. इस आश्रय स्थल का खर्च चलाने के लिए वह टोली बनाकर सुंदरकांड का पाठ करते हैं. दान में मिली रकम वह गोवंशों पर खर्च करते हैं। इधर, भीषण ठंड में कई गोशालाओं में गोवंशों की दुर्दशा से आहत थे. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें