Video: मंत्री सतीश महाना की चुनावी सभा में ग्रामीणों ने आवारा जानवर छोड़े

Komal Sultaniya, Last updated: Thu, 3rd Feb 2022, 9:11 PM IST
  • सोशल मीडिया पर कानपुर का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें कैबिनेट मंत्री सतीश महाना बुधवार को एक चुनावी बैठक को संबोधित कर रहे थे. मंत्री जी चुनाव जीतने को लेकर मौजूद कार्यकर्ताओं से चर्चा कर रहे थे. बैठक के दौरान अचानक बड़ी संख्या में एक गायों का झुंड सभा में आ जाता है. जिसके बाद चुनावी सभा में अफरा-तफरी मच गई.
Video: मंत्री सतीश महाना की चुनावी सभा में ग्रामीणों ने आवारा जानवर छोड़े

सोशल मीडिया पर कानपुर का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें कैबिनेट मंत्री सतीश महाना बुधवार को एक चुनावी बैठक को संबोधित कर रहे थे. मंत्री जी चुनाव जीतने को लेकर मौजूद कार्यकर्ताओं से चर्चा कर रहे थे. बैठक के दौरान अचानक बड़ी संख्या में एक गायों का झुंड सभा में आ जाता है. जिसके बाद चुनावी सभा में अफरा-तफरी मच गई. हालांकि बाद में मंत्री ने इस पर नाराजगी भी जताई.

बैठक के दौरान मंत्री यह जानने की कोशिश भी कर रहे थे कि इस गांव में कितने लोग हें, जिनके वोट नहीं मिलेंगे. मंत्री ने गायों के झुंड जानबूझकर छोड़े जाने को लेकर नाराजती भी जताई, साथ ही चेतावनी दिया. बता दें कि, सभा के लिए एक छोटा सा मंच बनाया गया था. यह आयोजन ग्राम प्रधान ने किया था. कार्यक्रम को देखते हुए गांव की नालियां भी साफ करा दी थी. लेकिन रास्ते पर नालियों से निकला कचरा फैला दिया, ताकि इसी कचरे से उनकी गाड़ियां गुजरें. साथ ही खेतों में फसल बर्बाद कर रहे 25-30 आवारा जानवरों को खदेड़कर एक बगीचे में रोक लिया. 

यूपी चुनाव: 25 प्रतिशत प्रत्याशियों पर आपराधिक मामले दर्ज, 48 फीसदी करोड़पति, देखें रिपोर्ट

बता दें कि, सतीश महाना मंच से बोल रहे थे तभी गांव के 15-20 लोग आवारा जानवरों को हांकते हुए मीटिंग की ओर ले गए और सभा स्थल से गुजार दिया. इसके बाद भगदड़ मच गई. सतीश महाना भीअसहज हो गए. जब मवेशियों का झुंड चला गया तो मंत्री ने चेतावनी दी कि यदि गायों का आना स्वाभाविक है तो कोई बात नहीं. यदि इसमें कोई साजिश है तो उसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा. संबंधित इलाके के थानेदार को फोन किया. एसडीएम को तुरंत कार्रवाई करने के लिए कहा. अगले दिन गुरुवार को पुलिस और मजिस्ट्रेट दोनों गांव पहुंच गए. गांव वालों के बयान दर्ज किए गए. पता चला कि ग्राम प्रधान के विरोधी खेमे की यह करतूत थी. रिपोर्ट तहसील को भेजी गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें