कानपुर केयर टेकर विभाग की विजिलेंस जांच शुरू, खंगाले जा रहे सालों पुराने रिकॉर्ड

Smart News Team, Last updated: 20/09/2020 10:52 PM IST
केन्द्रीय श्रम मंत्री के आदेश पर विजिलेंस टीम कानपुर के केयर टेकर विभाग की जांच कर रही है. रविवार को विजिलेंस टीम ने फिर से जांच शुरू की. विजिलेंस जांच में दस साल पुराने रिकॉर्ड खंगाले जा रहे हैं. शुरूआती जांच में वेतन भुगतान और कर्मचारी नियुक्ति में गड़बड़ी सामने आई.
विजिलेंस टीम केयर टेकर विभाग के दस साल पहले के रिकॉर्ड खंगाल रही है. प्रतीकात्मक तस्वीर.

कानपुर. केन्द्रीय श्रम मंत्री के आदेश पर रविवार को विजिलेंस टीम ने केयर टेकर के दस साल पुराने रिकॉर्डों की छानबीन शुरू कर दी है. श्रम मंत्री को शिकायत मिली थी कि कानपुर के केयर टेकर विभाग में कर्मचारी नियुक्ति और वेतन भुगतान में गड़बड़ी हो रही है. जिसके बाद विजिलेंस जांच शुरू हुई. छानबीन में गड़बड़ी सामने आई है. टीम ने पाया कि विभाग में 15 कर्मचारी काम कर रहे थे और भुगतान 30 कर्मचारियों का हो रहा था.

केन्द्रीय श्रम मंत्री को शिकायत मिली थी कि केयर टेकर विभाग के आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को पीएफ और ईएसआईसी मेडिकल स्कीम का लाभ नहीं मिल रहा है. कर्मचारियों का बैंक खाता एजेंसी के निजी बैंक में खुलवा कर पासबुक और एटीएम कार्ड खुद ही रख लिया. जिसे वो खुद ही आपरेट कर रहे हैं. ईएसआईसी से भुगतान होने के बाद कर्मचारियों को 7 हजार का भुगतान किया जाता है.

कानपुर: बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई और फीस माफी के लिए अभिभावकों का कैंडल मार्च

केन्द्रीय श्रम मंत्री ने इस मामले की जांच का जिम्मा विजिलेंस टीम को सौंपा. विजिलेंस टीम ने दिल्ली में रविवार को जांच शुरू कर दी. जब विजिलेंस टीम ने केयर टेकर विभाग के दस साल पुराने रिकॉर्डों को खंगाला तो वो हैरान रह गई. जांच की शुरूआत में ही लाखों की गड़बड़ी, वेतन का भुगतान और कर्मचारी नियुक्ति में गड़बड़ी मिली. इसके अलावा विजिलेंस टीम को आउटसोसिंर्ग कर्मचारियों का पीएफ और ईएसआईसी मेडिकल स्कीम के कवरेज और अंशदान नहीं जमा होने में भी गड़बड़ी मिली है. 

विकास दुबे के साथी अमर के परिजनों से भारतीय ब्राह्मण महासभा अध्यक्ष की मुलाकात

गड़बड़ी मिलने पर टीम ने कर्मचारियों के बयान दर्ज किए. जिससे पता चला कि जिन लोगों ने श्रम मंत्री से शिकायत की है. उनसे ये सब लिखा लिया गया ताकि शिकायत पर लीपापोती की जा सके. केन्द्रीय श्रम मंत्री टीम के संपर्क में हैं. उन्होंने केयर टेकर विभाग की दस साल की खरीद का पूरा हिसाब-किताब और जांच रिपोर्ट मांगी है. इन गड़बड़ियों में पांच अफसर विजिलेंस टीम के रडार में आ गए हैं. विजिलेस टीम बैंक से सबूत जुटाने की कोशिश कर रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें