आईआईटी कानपुर व ई-स्पिन नैनोटेक ने बच्चों के लिए बनाया स्वसा चिल्ड्रन मास्क

Smart News Team, Last updated: Fri, 13th Nov 2020, 8:05 PM IST
  • आईआईटी कानपुर व ई-स्पिन नैनोटेक टीम ने 4 साल से लेकर 14 साल तक के बच्चों के लिए स्वासा मास्क तैयार किए हैं.मास्क की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट 24 घण्टे काम कर रही है. 14 नवंबर को दीपावली के साथ-साथ बच्चों का बाल दिवस भी है उसी दिन स्वसा की टीम बच्चों के लिए बनाया गया मास्क ऑनलाइन लांच करेगी.
कानपुर आईआईटी व ई-स्पिन नैनोटेक प्राइवेट लिमिटेड ने कोरोना महामारी के दौरान जन सुरक्षा के लिए बनाया गया

कानपुर: उत्तर प्रदेश की कानपुर आईआईटी व ई-स्पिन नैनोटेक प्राइवेट लिमिटेड ने कोरोना महामारी के दौरान जन सुरक्षा के लिए बनाया गया स्वासा मास्क ने पूरे देश और दुनिया में बड़ा नाम किया था. और पूरे देश और दुनिया आईआईटी कानपुर के मास्क की धूम रही थी. अब आईआईटी कानपुर बच्चों को कोरोना महामारी से बचाने के लिए आईआईटी की स्वासा की टीम ने बच्चों के लिए स्पेशली एन 95 लेवल का मास्क तैयार किया है और इस मास्क को दीपावली के दिन स्वासा की टीम ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लांच करने की तैयारी कर रही है.

इस की जानकारी देते हुए स्वासा व ई स्पिन नैनो टेक्नोलॉजी के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ.संदीप पाटिल ने बताया कि देश में बच्चों के लिए कोई मास्क नहीं था. बच्चों की सुरक्षा कोविड-19 के वायरस से कैसे की जाए इस पर स्वासा की टीम लगातार वर्क कर रही थी. टीम ने 4 साल से लेकर 14 साल तक के बच्चों के लिए स्वासा मास्क तैयार किए हैं.मास्क की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट 24 घण्टे काम कर रही है. 14 नवंबर को दीपावली के साथ-साथ बच्चों का बाल दिवस भी है उसी दिन स्वसा की टीम बच्चों के लिए बनाया गया मास्क ऑनलाइन लांच करेगी.

सावधान, "दीपावली त्योहार के मौके पर किया उपद्रव तो जाओगे जेल

तो वही कंपनी के डायरेक्टर सुनील दोहले ने बताया कि बच्चे अगर इस मास्क में ज्यादा हाथ नहीं लगाएंगे.तो वह इसका प्रयोग दो हफ्ते तक आराम से कर सकेंगे. मास्क कई रंगों में बनाये जा रहे हैं.बच्चों को ब्लैक और वाइट कलर ज्यादा अट्रैक्ट नहीं करते हैं.कलर फुल चीजें पसंद आती हैं.जिसकी वजह से बच्चों के लिए डिजाइनर व कलर फुल मास्क बनाए जा रहे हैं.मास्क की टेस्टिंग इस लेवल पर की गई है कि बच्चों पर कोई वायरस हमला न कर सके.

उन्होंने बताया कि ऐसे मास्क तैयार किए गए हैं कि बच्चों को वायरस और बैक्टीरिया के साथ हवा में फैले प्रदूषण से भी बचाएगा.देश के कई शहर प्रदूषण मानकों का लगातार रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं.ऐसे में हम सभी की जिम्मेदारी है कि को बच्चों को साफ-सुथरी हवा उपलब्ध कराएं अगर बच्चे मास्क पहनकर बाहर निकलेंगे तो उनका प्रदूषण के साथ-साथ वायरस और बैक्टीरिया से भी बचाव होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें