आइआइटी कानपुर तैयार करेगा साइबर योद्धा

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 05:29 PM IST
  • साइबर क्राइम से लड़ने के लिए नए योद्धाओं को तैयार करेगा कानपुर आइआइटी. नए सत्र से साइबर सुरक्षा के तीन नए पाठ्यक्रम शुरू होने जा रहे हैं. 
साइबर क्राइम से लड़ने के लिए नए योद्धाओं को तैयार करेगा कानपुर आइआइटी

कानपुर: पूरा विश्व डिजिटल दुनिया की ओर बढ़ रहा है. डिजिटल दुनिया में लोगों को कई तरह की चुनौतियों का भी सामना करना पड़ रहा है. इन्हीं चुनौतियों को देखते हुए बहुत सारे लोग डिजिटल दुनिया में आने से बच रहे हैं. देश को साइबर सुरक्षा की फील्ड में नए योद्धाओं की लगातार जरूरत महसूस की जा रही है. जो ऑनलाइन फ्रॉड को रोकने में मदद करें ताकि लोग बेफिक्र होकर ऑनलाइन प्लेटफॉफार्म्स का इस्तेमाल कर सकें. 

साइबर क्राइम से लड़ने के लिए नए योद्धाओं को तैयार करेगा कानपुर आइआइटी. नए सत्र से साइबर सुरक्षा के तीन नए पाठ्यक्रम शुरू होने जा रहे हैं. इसमें पीएचडी, मास्टर ऑफ साइंस, स्नातक व स्नातकोत्तर (पीजी) की दोहरी डिग्री के पाठ्यक्रमों को शामिल किया गया है.आने वाले साल में अप्रैल से मई के बीच छात्र इन पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन कर सकेंगे.

कानुपर के पीएचडी करने वालों छात्रों के लिए खुशखबरी, बनेगा नया शोध केंद्र

इन तीनों स्ट्रीम के पाठ्यक्रम को साइबर के विशेषज्ञ तैयार करेंगे. पाठ्यक्रम में इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि देश में साइबर सुरक्षा और बेहतर हो सके. पाठ्यक्रम में डिजिटल भारत का भी ध्यान रखा गया है. कंप्यूटर विज्ञान एवं इंजीनियरिंग विभाग ये पाठ्यक्रम संचालित करेगा. 

12 वीं के बाद साइबर सुरक्षा में कॅरियर बनाने वाले नए सत्र में बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी-मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी की दोहरी डिग्री वाले पाठ्यक्रम में प्रवेश ले सकेंगे. इसके अलावा मास्टर इन साइंस की स्नातकोत्तर डिग्री में ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट की मेरिट पर दाखिला मिलेगा. पीएचडी में भी प्रवेश परीक्षा की रैंकिंग के आधार पर छात्रों को साइबर सुरक्षा के नए पाठ्यक्रम में प्रवेश दिया जाएगा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें