जून माह से लेकर अक्टूबर माह के अंत तक व्यापार कर वसूली में कानपुर अव्वल

Smart News Team, Last updated: 03/11/2020 08:14 PM IST
  • कोरोना महामारी के दौरान लगे लॉक डाउन मैं राजस्व वसूली में ब्रेक लगने के बाद से कानपुर उबरने लगा है. जून माह से शुरू हुई अनलॉक डाउन की प्रक्रिया के बाद से लेकर अक्टूबर माह के अंत तक व्यापार कर वसूली में कानपुर अव्वल आया है.
जून माह से शुरू हुई अनलॉक डाउन की प्रक्रिया के बाद से लेकर अक्टूबर माह के अंत तक व्यापार कर वसूली में कानपुर अव्वल आया है.

कानपुर. बताते चलें कि पिछले साल की तुलना में कानपुर मैं वाणिज्य कर विभाग का टेक्स्ट संग्रह में वृद्धि हुई है. प्रदेश के शो करो रुपए से ज्यादा का टैक्स संग्रह करने वाले जिलों में कानपुर ने 9.41 फ़ीसदी टैक्स संग्रह करके अपना नाम सूची में सबसे ऊपर लिखवा दिया है. तीसरी तिमाही अक्टूबर में टैक्स संग्रह करने वाले टॉप 5 शहरों में अयोध्या गोरखपुर वाराणसी जोन-1, अलीगढ़ और मुरादाबाद शामिल है. जो कि व्यापारियों से कर वसूली के तुलना में व्यापार कर इन्हें छोटे शहरों में मानता है क्योंकि इनमें से किसी भी शहर का टेक्स संग्रह 100 करोड़ों रुपए से अधिक नहीं है.

कानपुर के टैक्स संग्रह की बात करें तो साल 2019 अप्रैल में 399. 33 करोड़ रुपए के सापेक्ष अप्रैल 2020 में 30.64, इसी तरह मई 2019 में 398.23 के सापेक्ष मई 2020 में 150.39 करोड़ रुपए टैक्स की वसूली की गई. जून 2019 में वाणिज्यकर कानपुर ने जहां 371.72 रुपए व्यापारियों से कर के रूप में वसूल किए तो वही जून 2020 में 300.95 फीस दी का आंकड़ा रहा. जुलाई 2019 में 409.39, अगस्त माह में 339.13, सितंबर माह में 332.49, तथा अक्टूबर 2019 में वाणिज्य कर विभाग ने व्यापारियों से तीन से 12.19 करोड़ों रुपए कर के रूप में वसूल किए. 

आईआईटी कानपुर के वाई २0 बैच के लिए 8 नवम्बर से जारी होगा अकैडमिक कलेंडर

जबकि इसके सापेक्ष जुलाई 2020 में वाणिज्य कर विभाग ने 366.39, अगस्त माह में 339.72 तथा अक्टूबर माह में 341.56 करोड़ रुपए कर के रूप में संग्रह किए हैं. बताते चलें कि वाणिज्य कर विभाग ने दो जनों में बटे व्यापारियों से कर के रूप में उक्त राशि जमा करवाई है. वाणिज्य कर विभाग के आंकड़ों के अनुसार जॉन एक में 535 82 जबकि जॉन 2 में 54904 व्यापारियों से वसूली की गई है. वही जॉन एक में 5376 तथा जॉन दो में 5402 व्यापारियों ने अपने नवीन पंजीकरण कराए हैं.

इस संबंध में एडिशनल कमिश्नर ग्रेड 2 व जोन 1 के कमलेश्वर प्रसाद वर्मा ने बताया कि कोरोना काल से अब कानपुर उबरने लगा है. कानपुर का कारोबार अब रफ्तार पकड़ने लगा है पिछले 3 माह से लगातार कर संग्रह पिछले वर्ष की तुलना के मुकाबले अधिक हुआ है इसका सीधा सा अर्थ है कि देश की अर्थव्यवस्था अब गति पकड़ने लगी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें