Makar Sankranti 2022: कब है मकर संक्रांति? जाने तिथि और माहपुण्य काल का शुभ समय

Pallawi Kumari, Last updated: Tue, 4th Jan 2022, 4:30 PM IST
  • हिंदू कैलेंडर के अनुसार मकर संक्रांति का त्योहार पौष मास का आखिरी पर्व होता है. हर साल 14 जनवरी के दिन इसे मनाया जाता है. ये हिंदू धर्म का खास पर्व होता है. मकर संक्रांति में स्नान, दान, पूजा, तर्पण का खास महत्व होता है. आइए जानते हैं कि मकर संक्रांति में महापुण्य काल का मुहूर्त और विशेषताएं.
मकर संक्रांति

मकर संक्रांति का त्योहार हिंदू धर्म का खास और बड़ा पर्व होता है. ये नए साल का पहला और पौष मास का आखिरी त्योहार होता है. मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव बुध राशि से निकलकर मकर राशि में गोचर करते हैं इसलिए इसलिए इस दिन को मकर संक्रांति कहा जाता है. खास बात ये भी है कि मकर संक्रांति के बाद से ही पूरे एक मास रुके हुए शुभ व मांगलिक कार्यों की फिर से शुरुआत हो जाती है.

इस दिन के बाद से शादी-विवाह, सगाई, गृह-प्रवेश, मुंडन आदि जैसे कार्य शुरू हो जाते हैं. आइये जानते हैं कब है मकर संक्रांति और हिंदू धर्म में क्या है इसका महत्व. साथ ही जानते हैं मकर संक्रांति पर महापुण्य काल का मुहूर्त.

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति पर राशि के अनुसार करें दान, मिलेगा दोगुना लाभ

कब है मकर संक्रांति-

मकर संक्राति शुक्रवार 14 जनवरी 2022 को मनाई जाएगी. इस दिन शुभ मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 09 मिनट से दोपहर 12 बजकर 51 मिनट तक है. मकर संक्रांति के दिन दोपहर 01 बजकर 36 मिनट तक शुक्ल योग है, उसके बाद से ब्रह्म योग लग जाएगा.

मकर संक्रांति का महत्व-

ऐसी मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन भगवान सूर्य अपने पुत्र शनि के दर्शन करने गए थे.इस दौरान उन्होंने अपने सारे मतभेद भुला दिए. इसलिए कहा जाता है कि इस दिन से सारे रिश्तों में सुधार आता है. वहीं इस साल मकर संक्रांति का दिन काफी शुभ है क्योंकि इस दिन सूर्य देव और शनि 30 साल बाद मकर राशि में मिलेंगे. ग्रहों की इस स्थिति का जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ सकता है. क्योंकि ये ग्रह एक साथ बहुत कम मिलते हैं, लेकिन जब ऐसा होता है, तो कुछ असामान्य घटनाओं की संभावना भी रहती है.

महापुण्य काल मुहूर्त-

मकर संक्रांति के दिन पौष माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि है. इस दिन सूर्य देव का मकर राशि में गोचर दोपहर 02 बजकर 43 मिनट पर होगा. मकर संक्रांति का पुण्य काल 03 घंटा 02 मिनट का है. यह दोपहर 02 बजकर 43 मिनट से शुरू होकर शाम 05 बजकर 45 मिनट तक है. मकर संक्रांति का महापुण्य काल 01 घंटा 45 मिनट होगा. जोकि दोपहर 02 बजकर 43 मिनट से शाम 04 बजकर 28 मिनट होगा.

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति पर इस पुण्यकाल में दान करने से मिलेगा महापुण्य

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें