कानपुर में शो पीस बना पोषण पुनर्वास केंद्र, अधिकारी नहीं ले रहे सुधि

Smart News Team, Last updated: 30/11/2020 12:57 PM IST
  • कुपोषित बच्चों के पोषण के लिए वर्ष 2016 में जिला अस्पताल के आईसीयू में पोषण पुनर्वास केंद्र की हुई थी स्थापना. पिछले 8 माह में एक भी कुपोषित बच्चा पोषण पुनर्वास केंद्र में नहीं हुआ भर्ती.
फाइल फोटो

कानपुर: कानपुर में कुपोषित बच्चों के लिए बना पोषण पुनर्वास केंद्र शोपीस बनकर रह गया है। यहां कुपोषित बच्चों कि पिछले 8 माह से कोई भर्ती नहीं हुई है.सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना को ताक पर रखकर अधिकारी कुपोषित बच्चों के साथ खिलवाड़ करते नजर आ रहे हैं. पोषण पुनर्वास केंद्र में पिछले 8 माह से एक भी कुपोषित बच्चा भर्ती नहीं किया गया है.

इससे अधिकारियों का उदासीन रवैया साफ नजर आ रहा है. इसका अर्थ यह लगाया जा सकता है कि पिछले 8 माह में जिले भर में कहीं भी कुपोषित बच्चा पैदा नहीं हुआ. कोरोना काल में जिले में कुपोषित बच्चों के पोषित करने की योजना मजाक बनकर रह गई है.शासन के निर्देश के बाद भी जिम्मेदार बेपरवाह बने हुए है. समीक्षा में यह बात संज्ञान में आने के बाद मिशन निदेशक ने डीएम को पत्र लिखकर पोषण पुनर्वास केंद्र को क्रियाशील कराने का आग्रह करने के बाद जिम्मेदारों ने कवायद शुरू की है.

रंग लाई ‘हिंदुस्तान’ की मुहिम, कानपुर गंगा बैराज पर जाली लगाने का काम शुरू

दरअसल कुपोषित बच्चों के पोषण के लिए जनवरी 2016 में जिला अस्पताल के आइसीसीयू (इंसेंटिव कार्डिक केयर यूनिट) में पोषण पुनर्वास केंद्र की स्थापना की गई थी. आंगनबाड़ी केंद्रों में वजन दिवस पर चिह्नित कुपोषित बच्चों को इस केंद्र में भर्ती कर इलाज के साथ पोषण उपलब्ध कराने, 24 घंटे देखभाल की व्यवस्था की गई थी.

बच्चों की माता को भी ठहरने और नि:शुल्क भोजन का इंतजाम कराया गया था. यहां कुपोषित बच्चे के शारीरिक एवं मानसिक विकास को प्रोत्साहित करने के लिए खिलौने आदि की व्यवस्था थी. अप्रैल 2016 में इस केंद्र का शुभारंभ हुआ था. मार्च माह में यहां दो बच्चे भर्ती हुए थे, लेकिन लॉक डाउन के बाद उनको डिस्चार्ज कर दिया गया था. इसके बाद से अब तक यहां एक भी कुपोषित बच्चा भर्ती नहीं हुआ.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें