कानपुर: पतंगबाजों के खिलाफ पुलिस चलाएगी अभियान, मिल सकती है पतंग उड़ाने की सजा

Smart News Team, Last updated: Wed, 24th Mar 2021, 9:40 PM IST
  • कानपुर में पतंग के मांझे से एक्टिवा पर मां के साथ सवार बच्चों की गर्दन कटने से बच्चा गंभीर घायल हो गया. इस घटना के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद डीआईजी ने कड़ा संज्ञान लिया है. 
डीआईजी ने पतंग के मांझे से गर्दन कटने से बच्चे के घायल होने पर कड़ा संज्ञान लिया 

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर में अब पतंग उड़ाने वालों को सावधान रहना पड़ेगा क्योंकि उनकी पतंगबाजी को अब कानपुर पुलिस लोगों की जान का खतरा जो समझ बैठी है. जिसके चलते डीआईजी के सख्त आदेश के बाद मुख्य मार्ग या भीड़भाड़ वाले  इलाकों में पतंग उड़ाने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई किए जाने का निर्देश जारी कर दिया गया है.

दरअसल कानपुर डीआईजी का यह निर्देश उस हादसे को देखने के बाद जारी किया गया. जब बीते मंगलवार की शाम एक छात्र अपनी मां के साथ स्कूटी से कोचिंग को जा रहा था. तभी फेथफुल गंज से गुजर रहे पुल पर छात्र की गर्दन को काटता हुआ पतंग का मांझा निकल गया. जिसको देख स्कूटी चला रही मासूम की मां कुछ भी समझ पाती, तब तक छात्र खून से लथपथ हो गया और उसे देख मां भी बेसुध हो गई और मदद की गुहार लगाने लगी. तभी मौके से गुजर रहे राहगीरों ने मदद करते हुए दोनों मां बेटे को अस्पताल पहुंचाने का काम किया. जहां डॉक्टरों ने अनानं फानन में इलाज शुरू किया. घायल छात्र की मां अनी गुप्ता ने होश में आने के बाद बताया कि बमुश्किल छात्र की जान को बचा लिया गया, फिलहाल छात्र टांके लगने की वजह से कुछ बोल तो नही पा रहा है लेकिन खतरे के बाहर है.

गूगल देगा टीचर्स को ट्रेनिंग, तकनीक में माहिर बनेंगे CBSE के शिक्षक, जानें डिटेल

सोशल मीडिया पर चली खबर की सूचना को कानपुर डीआईजी प्रीतिंदर सिंह ने संज्ञान में लिया और अस्पताल जाकर घायल छात्र का हालचाल जाना, साथ ही रेल बाजार थाने को निर्देशित करते हुए मां की तहरीर के अनुसार धारा 307 के तहत एफआईआर दर्ज करने का आदेश जारी करते हुए अज्ञात लोगों की पहचान करते हुए गिरफ्तारी करने का आदेश दिया है. जिसके तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई है. इसके साथ ही डीआईजी ने पूरे कानपुर के थानेदारों को निर्देशित कर दिया है कि अगर थाना क्षेत्र के मुख्य मार्ग, हाईवे किनारे या फिर भीड़भाड़ वाले स्थानों पर कोई पतंगबाजी करता दिखता है तो उसको रोकने का कार्य किया जाए और अगर वह नहीं मानता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें