Sawan Somwar: सावन का आखिरी सोमवार आज, ऐसे करें शिवजी की पूजा, मिलेगा मनचाहा फल

Smart News Team, Last updated: Mon, 16th Aug 2021, 7:05 AM IST
  • 23 जुलाई को शुरू हुआ पावन सावन के हीने का आज चौथा और आखिरी सोमवार है. आज के दिन शिवजी की विशेष पूजा विधि से आपको मनचाहा फल मिलेगा. आज के दिन भगवान भोलेनाथ की कृपा भक्तों पर बरसेगी.
सावन का आखिरी सोमवार आज. फोटो साभार-लाइव हिन्दुस्तान

आज यानी 16 अगस्त 2021 सावन महीने का आखिरी सोमवार है. 22 अगस्त को सावन का महीना खत्म हो रहा है. ऐसी मान्यता है कि आज सावन का आखिरी सोमवार सिर्फ भक्तों के लिए ही नहीं बल्कि भगवान भोलेनाथ के लिए भी प्रिय दिन होता है. इसलिए सावन के आखिरी सोमवार में विशेष पूजा अर्चना करने से मनचाहा वरदान मिलता है. आज शिवभक्त भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना करते हैं. इसलिए ये बेहद जरूरी है कि शुभ मुहूर्त पर विधि विधान के साथ भगवान की पूजा की जाए.

पूजा विधि- सुबह जल्दी उठें और स्नान आदि करके साफ कपड़े पहनें. इसके बाद घर या मंदिर में भगवान शिव की पूजा करें. शिवलिंग में गंगाजल, दूध, दही और शहद से जलाभिषेक करें. इसके बाद फूल, बेल पत्र चढाएं. सात्विक चीजों से प्रसाद का भोग लगाए. दीप और धूप जलाकर शिव की आरती करें. आज के शिव अधिक अधिक से अधिक समय शिव का ध्यान करें और मंत्र का जाप करें.

शुभ मुहूर्त- ब्रह्म मुहूर्त- सुबह 04:24 से सुबह 05:07 बजे कर , अभिजित मुहूर्त- सुबह 11:59 से दोपहर 12:51 तक, विजय मुहूर्त- दोपहर 02:37 बजे से 03:29 तक, गोधूलि मुहूर्त- शाम 06:46 से शाम 07:10 तक, अमृत काल- 17 अगस्त सुबह 05:15 बजे से सुबह 06:45 तक.

Krishna Janmashtami 2021: इस साल बन रहा शुभ संयोग, जानें तिथि, मुहूर्त,पूजा विधि

कब खत्म हो रहा सावन का महीना- पंचाग के अनुसार 23 जुलाई 2021 को शुरू हुआ सावन का महीना रविवार 22 अगस्त 2021 को श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को सावन का मास समाप्त हो रहा है. इसके बाद भाद्रपद मास शुरु होगा.

सावन का महीना किसी भी पूजा पाठ और काम के लिए शुभ माना जाता है. ऐसा कहा जाता है कि सावन के महीने में भगवान शिव धरती में रहते हैं. सावन में सोमवार व्रत के साथ ही कई व्रत किए जाते हैं. इस महीने हिंदूओं के रक्षा बंधन, नाग पंचमी और तीज जैसे कई त्योहार मनाए जाते हैं.

इस दिन से खुलने जा रहा है जगन्नाथ मंदिर, दर्शन करने के लिए बनाएं गए ये नियम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें