कानपुर: बिठूर रेलवे ट्रेक पर फिर दौड़ेगी ट्रेन, वर्षों बाद संचालन होगा शुरू

Smart News Team, Last updated: Fri, 8th Jan 2021, 6:32 PM IST
  • कानपुर:रेलवे ने नए साल के मौके पर ब्रह्मावर्त बिठूर तक ट्रेनों के दौडाने की तैयारी कर ली है. अब कई सालों बाद बिठूर में फिर से ट्रेन का हॉर्न गूंजेंगा. वहीं वाल्मीकि आश्रम में माता सीता से जुड़ी यादों को देखते हुए स्टेशन को अयोध्या और चित्रकूट से भी जोड़ने की तैयारी की जा रही है.
कानपुर रेलवे (फाइल फोटो)

कानपुर. रेलवे ने नए साल के मौके पर ब्रह्मावर्त बिठूर तक ट्रेनों के दौडाने की तैयारी कर ली है. अब कई सालों बाद बिठूर में फिर से ट्रेन का हॉन गूंजेंगा. वहीं वाल्मीकि आश्रम में माता सीता से जुड़ी यादों को देखते हुए स्टेशन को अयोध्या और चित्रकूट से भी जोड़ने की तैयारी की जा रही है. बिठूर तक ट्रेनों के दौडाने का क्रम शुरू हो जाता, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते यह काम पूरा नहीं हो सका. बता दें, कानपुर की ऐतिहासिक नगरी बिठूर तक पहले ट्रेन चलाई जाती थी.

बिठूर के ट्रैक पर सुबह और शाम के समय एक छोटा डीजल इंजन संचालित होता था, जिससे कानपुर शहरी क्षेत्र और दूर दराज से गंगा स्नान करने के लिए आने वाले श्रद्धालु आवागमन करते थे. वहीं बिठूर समेत आसपास के गांवों में रहने वाले ग्रामीणों के लिए यह डीजल इंजन वाली ट्रेन आवागमन का प्रमुख साधन हुआ करती थी. हालांकि, 15 नवंबर 2005 को इज्जतनगर मंडल ने घाटे का सौदा बताकर इस रूट पर ट्रेनों का संचालन बंद कर दिया था.

GSVM मेडिकल कॉलेज में अगले सत्र से बढ़ेंगी PG की 44 सीटें, DGMI को भेजा प्रस्ताव

इसके बाद से यहां ब्रह्मावर्त जन कल्याण विकास समिति ने ट्रेन शुरू करने का मुद्दा उठाया. यहां के किसानों को अपना सामान शहर व दूसरे जिलों में ले जाने में समस्या आने लगी. क्षेत्रीय आंदोलन के चलते बिठूर के विकास का खाका खींचा गया. इसके बाद रेलवे ने पौराणिक नगरी तक अमान परिवर्तन करने का निर्णय लिया. करीब दस साल बाद 2015 में बिठूर लाइन का अमान परिवर्तन का काम रेलवे ने शुरू कराया. हालांकि, अब जल्द ही संचालन भी शुरू हो जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें