लखनऊ: सरकारी नौकरी के नाम पर एक दर्जन लोगों से 30 लाख की ठगी, ठग अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 06/12/2020 07:10 AM IST
  • लखनऊ में सरकारी नौकरी के नाम पर एक दर्जन लोगों से 30 लाख की ठगी करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी के पास से तमंचे और कारतूस भी बरामद हुए हैं.
लखनऊ में सरकारी नौकरी के नाम पर एक दर्जन लोगों से 30 लाख की ठगी.

लखनऊ. सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर एक दर्जन लोगों से 30 लाख की ठगी करने वाले आरोपी को शनिवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी ग्राम विकास अधिकारी से लेकर चतुर्थ श्रेणी पद पर नियुक्ति कराने का दावा कर लोगों से ठगी करता था. पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी के पास से तमंचे और कारतूस भी बरामद हुए हैं.

एसीपी विवेक रंजन राय ने बताया कि शुक्रवार को गोमतीनगर निवासी गिरिजा शंकर मिश्र ने लखीमपुर निवासी आरोपी प्रशांत मिश्रा के खिलाफ केस दर्ज कराया था. एसपी ने बताया कि आरोपी प्रशान्त दलीपपुर टॉवर में अपना एक इलेक्ट्रिक फर्म चलता है. आरोपी प्रशान्त की मुलाकात गिरिजा से हुई. आरोपी ने गिरिजा को बताया कि उसका सचिवालय और शिक्षा विभाग में गहरी पैठ है. प्रशान्त पर भरोसा कर गिरिजा ने अपनी पत्नी की नियुक्ति कराने के लिए आरोपी प्रशान्त को चार लाख रुपये दिए थे.

छात्रों के लिए सीएम योगी का नया फरमान, नए साल पर यूपी सरकार ने की अलग तैयारी

प्रशान्त पर आरोप है कि उसने गिरिजा की पत्नी के अलावा हंसादत्त जोशी, अमित जायसवाल, राघवेंद्र सिंह, सुधाकर त्रिपाठी, मुकुंद मिश्रा, आनन्द तिवारी, सुनील मिश्रा, ज्ञानेन्द्र शुक्ला, अफगान, राजन तिवारी, उपेंद्र और रसूल खान से सरकारी विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर तीस लाख रुपये लिए थे.

IPL में अब दिखेंगी नई टीम, लखनऊ और कानपुर में से एक को मिलेगी प्रीमियर लीग में जगह

आरोपी व्हाट्सएप के जरिये लोगों को नियुक्ति पत्र भेजा था. जिन लोगों को नियुक्ति पत्र मिला था, जब वे सरकारी कार्यालय में गए तब प्रशान्त की सच्चाई सामने आई कि उसने लोगों से ठगी की है. इसके बाद पीड़ितों ने आरोपी प्रशान्त से पैसा वापस करने को कहा. लेकिन वह टाल मटोल करता रहा. 

लखनऊ: 507 NRI ने यूपी में उद्योग लगाने की जताई इच्छा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें