लखनऊ: अभ्यर्थियों ने राष्ट्रपति व राज्यपाल को लिखा पत्र, इच्छा मृत्यु मांगी

Smart News Team, Last updated: Mon, 11th Jan 2021, 3:01 PM IST
  • लखनऊ में बेसिक शिक्षा निदेशालय के पीछे मैदान में धरना दे रहे 69 हजार शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों ने रविवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और यूपी राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को पत्र लिखा. धरना दे रहे अभ्यर्थियों ने उस पत्र के जरिए इच्छा मृत्यु की मांग की है.
अभ्यर्थियों ने राष्ट्रपति व राज्यपाल को लिखा पत्र, रखी इच्छा मृत्यु की मांग

लखनऊ. शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी इन दिनों बेसिक शिक्षा निदेशालय पर धरना दे रहे है. अभ्यर्थियों ने रविवार को धरना देते वक्त इच्छा मृत्यु की मांग कर डाली और इससे सम्बंधित उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और यूपी राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को पत्र भी लिखा. ये फैसला अभ्यर्थियों ने विभाग और सरकार की तरफ से किसी भी तरह की सुनवाई नहीं होने पर इच्छा मृत्यु की मांग की है. आपको बता दे कि 69 हजार शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी निदेशालय के पीछे मैदान पर पिछले 35 दिनों से धरना दे रहे है.

निदेशालय के पास धरना दे रहे अभ्यर्थियों में से सीतापुर के निवासी बबली पाल और अभिषेक ने बताया कि 69 हजार शिक्षक भर्ती का ऑनलाइन फॉर्म भरते वक्त कुछ अभ्यर्थियों से प्राप्तांक अधिक, पूर्णाक कम, मेल की जगह फीमेल भर दिया गया. साथ ही ऐसी ही कुछ और त्रुटियों के चलते उन्हें सीधे भर्ती प्रक्रिया से बाहर ही कर दिया गया. जबकि उनकी मूल अभिलेख देखे जाए तो वह प्रदेश में मेरिट लिस्ट में आते है. वहीं अभ्यर्थियों ने आगे बताया कि उन्होंने किसी प्रकार की जालसाजी नहीं की है. साथ ही उन्होंने अपनी मांग बताते हुए कहा कि सभी अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र उनके मूल अभिलेख देखकर ही दिया जाय.

CM योगी ने किया औचक निरीक्षण, लिया ड्राई रन व वैक्सिनेशन तैयारी का जायजा

आपको बता दे कि 69 हजार शिक्षक भर्ती मामले पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश आने के बाद प्रदेश सरकार ने भर्ती प्रक्रिया को आगे बढ़ा दी है. साथ ही जल्द सभी मेरिट में आने वाले अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र भी देने जा रही है. जिन अभ्यर्थियों का किसी त्रुटि के चले उन्हें मेरिट लिस्ट से बाहर कर दिया गया है. वह बेसिक शिक्षा निदेशालय पर धरना देकर मांग कर रहे है कि नियुक्ति पत्र मूल अभिलेख देखकर ही दिया जाए.

सभी जिलों में होंगे चौरी-चौरा कांड के शताब्दी समारोह का आयोजन: यूपी सीएम योगी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें