69000 शिक्षक भर्ती : राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने 2 वरिष्ठ अफसरों को दिया नोटिस

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 04:02 PM IST
  • प्रदेश सरकार के अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार और महा निदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरण आनंद की गैर हाजिरी पर राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने नाराजगी जताई 69000 शिक्षक भर्ती मामले में सुनवाई करते हुए, आरक्षण और एमआरपी को लेकर राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने नाराजगी जताते हुए दोनों अफसरों दिया नोटिस.
सहायक शिक्षक भर्ती मामले मे आरक्षण और एमआरपी को लेकर राष्ट्रीय पिछड़ा आयोग वर्ग ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की

लखनऊ: 69000 शिक्षक भर्ती का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. सहायक शिक्षक भर्ती मामले में सुनवाई करते हुए आरक्षण और एमआरपी को लेकर राष्ट्रीय पिछड़ा आयोग वर्ग ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है.राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने प्रदेश सरकार के अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार और महा निदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरण आनंद की गैर हाजिरी पर नाराजगी जताई है. आयोग ने दोनों अफसरों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

दरअसल दोनों ही अफसर बैठक में गैरहाजिर थे. बैठक में गैर हाजिर रहने के चलते दोनों अफसरों को राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने 9 दिसंबर को कारण बताओ नोटिस के साथ तलब किया है.शुक्रवार की इस सुनवाई में प्रदेश सरकार के प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा, विशेष सचिव बेसिक शिक्षा, सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी प्रयागराज सहित निदेशक-एसआईओ एनआईसी उपस्थित रहे.

सुनवाई के दौरान राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के उपाध्यक्ष लोकेश प्रजापति ने जब एनआईसी अधिकारी से यह पूछा कि यह सब गड़बड़ियां आपकी तरफ से कैसे की गई और यह लिस्ट गलत तरीके से कैसे जारी कर दी गई तो एनआईसी अधिकारी का स्पष्ट रूप से कहना था कि हमें बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जो भी कुछ उपलब्ध कराया, उसके अनुसार ही हमने कार्य किया और इससे संबंधित उन्होंने आज शपथ पत्र भी आयोग न्यायालय में सौंप दिया.

शिक्षकों का शोषण! छुट्टी के लिए ली जाती है 2000 रुपये की घूस

9 दिसंबर को कोर्ट में गैरहाजिर होने पर अफसरों पर गिरगी गाज

राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष लोकेश प्रजापति ने आयोग न्यायालय में मौजूद अधिकारियों से कहा कि यदि 9 दिसंबर को अपर प्रमुख सचिव रेणुका कुमार एवं महानिदेशक स्कूली शिक्षा विजय करण आनंद आयोग न्यायालय में उपस्थित नहीं होते हैं तो ऐसी स्थिति में उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के साथ-साथ इस चल रही भर्ती प्रक्रिया पर भी कड़ा एक्शन लिया जा सकता है.आयोग न्यायालय में बेसिक शिक्षा विभाग के सभी प्रमुख अधिकारियों के साथ-साथ न्यायालय में मौजूद अभ्यर्थियों में सुनीता दक्ष, मनोज प्रजापति, अमन वर्मा, राजेश कुमार, नकुल कुमार, ललित लश्करी, विजय मलिक, अंकित देशवाल, आर के बघेल, रविंद्र बघेल, प्रतिभा, सुशील कश्यप सहित काफी अभ्यर्थी मौजूद थे .

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें