बिन फेरे हम तेरे... कर्मचारी की फर्जी पत्नी बन लिया भुगतान, लिपिक निलंबित

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Mon, 6th Dec 2021, 11:48 AM IST
नगर निगम के कोष पर नजर बनाए एक महिला ने मृत नगर निगम कर्मचारी को अपना पति कह कर पैसा ठग ली थी. मिली जानकारी के अनुसार ठग महिला का साथ नगर निगम के ही कुछ कर्मचारी दे रहे थे. राशि वितरण के दौरान नगर निगम के आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी को पता चला कि महिला मृतक राजू की पत्नी नहीं है.
महिला ने मृत नगर निगम कर्मचारी को अपना पति कह कर पैसा ठग ली

लखनऊ। ..बिन फेरे हम तेरे.. जी हां लखनऊ में ऐसा ही एक मामला सामने आया है. नगर निगम के कोष पर नजर बनाए एक महिला ने मृत नगर निगम कर्मचारी को अपना पति कह कर पैसा ठग ली थी. मिली जानकारी के अनुसार ठग महिला का साथ नगर निगम के ही कुछ कर्मचारी दे रहे थे.

साथ देने वाले कर्मचारी पर होगी कार्रवाई

महिला का साथ देने वाले कई कर्मचारियों पर कार्यवाही की तलवार लटकती दिख रही है. महिला का साथ दे रहे लिपिक हिमांशु को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस के रावत से काम वापस ले लिया गया है.

18 दिसंबर को पीएम मोदी कर सकते हैं गंगा एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास, सीएम योगी भी होंगे शामिल

यह है पूरा मामला..

दरअसल नगर निगम में नियमित सफाई कर्मी के रूप में 2007 में राजू की नियुक्ति हुई थी. नौकरी के 3 साल बाद यानी 2010 में राजू की मौत हो गई थी. राजू की मौत के बाद रेखा नाम की एक महिला ने खुद को राजू की पत्नी बताते हुए खुद को नौकरी पर रखने के लिए प्रार्थना पत्र दाखिल किया था. यह पत्र 27 जनवरी 2020 को दिया गया था. समय पर पैसे का भुगतान नहीं होने के कारण महिला ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी. इस पर नगर निगम के लिपिक हिमांशु ने राशि भुगतान करने की रिपोर्ट दी और राशि का भुगतान भी कर दिया गया. राशि वितरण के दौरान नगर निगम के आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी को पता चला कि महिला मृतक राजू की पत्नी नहीं है. तब आयुक्त ने मामले को सबके सामने लाया.  आपके आधार पर कोई सिम लेकर गलत इस्तेमाल तो नहीं कर रहा, ऐसे लगाएं पता

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें