BJP में शामिल बाहुबली जितेंद्र बबलू 6 दिनों में ही पार्टी से आउट, ये है वजह

Smart News Team, Last updated: Tue, 10th Aug 2021, 8:49 PM IST
  • बीजेपी में शामिल हुए पूर्व बसपा नेता जितेंद्र बबलू को बीजेपी ने पार्टी से बहार निकाल दिया है. जितेंद्र बबलू के बीजेपी में शामिल होने पर बीजेपी सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने जमकर विरोध किया था. जितेंद्र बबलू पर रीता बहुगुणा जोशी का घर जालाने का आरोप है. 
बीजेपी में शामिल हुए बाहुबली नेता जितेंद्र बबलू को भाजपा ने पार्टी से निकाला.

लखनऊ. हाल ही में बीजेपी में शामिल हुए पूर्व बसपा नेता जितेंद्र सिंह बबलू को भाजपा ने बहार का रास्ता दिखा दिया है. 4 अगस्त को बाहुबली नेता बबलू सिंह को भाजपा में शामिल हुए थे. पार्टी के कई नेता जितेंद्र बबलू के पार्टी में शामिल होने से नाराज थे. बीजेपी सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने जितेंद्र बबलू का जमकर विरोध किया था. जितेंद्र बबलू के पार्टी में शामिल होते ही रीता बहुगुणा ने उन्क्के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. पार्टी हाईकमान से भी इस मामले में बात करने के लिए भी कहा था. हालांकि मात्र छह दिन बाद ही जितेंद्र सिंह को बीजेपी ने पार्टी से निकाल दिया. 

साल 2009 में बसपा की सरकार के दौरान रीता बहुगुणा जोशी उत्तर प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष थी. आरोप है की इस दौरान जितेंद्र बबलू और कई लोगों पर रीता बहुगुणा जोशी का घर जलाने का आरोप है. जितेंद्र बबलू के पार्टी में शामिल होने पर रीता बहुगुणा जोशी ने कहा था की जितेंद्र सिंह बबलू के पार्टी में आने की बात पर मुझे काफी दुख हुआ है. शायद पार्टी अध्यक्ष को बबलू की करतूतों के बारे में पता नहीं होगा. मैं जल्द से जल्द उनसे मिलकर जानकारी दूंगी. मैं उम्मीद करूंगी कि जल्द से जल्द इन्हें बाहर किया जाएगा.

यूपी में जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए रिपोर्ट तैयार, जल्द CM योगी को सौंपने की तैयारी

4 अगस्त को जितेंद्र सिंह बबलू समेत कई नेताओं को उत्तर प्रदेश बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी में शामिल किया था. आपको बता दे की जितेंद्र बाबलु बसपा की सरकार में अयोध्या के बीकापुर से विधायक रहे हैं.  जितेंद्र बबलू पर एक दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं. जिसमें उनपर गैंगस्टर एक्ट में भी मुकदमा दर्ज है. रीता बहुगुणा जोशी का घर जलाए जाने के आरोप में उन्हें जेल भी जाना प्पदा था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें