रेप केस में बेल मिलने के बाद गायत्री प्रजापति पर धोखाधड़ी का केस, फिर गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Sat, 12th Sep 2020, 1:55 PM IST
  • लखनऊ के केजीएमयू में भर्ती पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति को धोखाधड़ी व धमकी देने के आरोप में लखनऊ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.
पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति (फाइल फोटो)

लखनऊ. शुक्रवार को लखनऊ के केजीएमयू में भर्ती पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रजापति के खिलाफ धोखाधड़ी व धमकी देने के आरोप लखनऊ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. उन्हें हिरासत में लेने के बाद केजीएमयू से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर अदालत में पेश किया गया .जहां एसीजेएम श्रद्धा भारती ने गायत्री को 25 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में लेने का आदेश दिया.

दरअसल गायत्री के खिलाफ रेप पीड़िता के पूर्व वकील दिनेश चंद्र त्रिपाठी ने गाजीपुर थाने में 10 सितंबर को धमकी और धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया था. दिनेश ने रेप पीड़िता को भी इस मामले में आरोपी बनाया था .वकील ने गायत्री और पीड़िता पर आरोप लगाया कि रेप के मुकदमे को खत्म करने के लिए पीड़िता ने दो मकान व प्लॉट लिए थे.

गायत्री प्रजापति को जेल भिजवाने वाली महिला ने एक और नेता पर लगाए गंभीर आरोप

वकील ने जो भी आरोप गायत्री और पीड़िता पर लगाए थे, पुलिस ने जांच में उन सभी आरोपों को सही पाया. जांच में आया कि यह मकान गायत्री के ड्राइवर की ओर से पीड़िता को दिए गए थे जबकि ड्राइवर के पास इतनी संपत्ति नहीं हो सकती. इसी आधार पर यह आरोप सच पाया गया. इसके अलावा पीड़िता ने इन दोनों मकानों को खरीदने के लिए दस्तावेजों में जिन चेक से भुगतान करने की बात कही थी. 

लखनऊ: पूर्व सपा मंत्री गायत्री प्रजापति पर एक और FIR, रेप पीड़िता, बेटी भी नामजद

जांच में यह भुगतान भी फर्जी पाए गए .इसी तरह अन्य आरोप भी सही मिले हैं. पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडे ने बताया कि वकील क्या आरोप प्रथम दृष्टया सही पाए गए हैं .उसी आधार पर यह गिरफ्तारी हुई है. रेप मामले में गायत्री को हाईकोर्ट ने कुछ दिन पहले ही जमानत दे दी थी पर इस मामले में अभी उनकी रिहाई नहीं हुई थी. वह जमानत मिलने से पहले ही केजीएमयू में भर्ती थे यहां उनका इलाज चल रहा है. रिहाई ना होने की वजह से वह अभी न्यायिक हिरासत में है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें